Development, prosperity of Northeast is always priority of Modi government: Shah

नई दिल्ली: भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर कांग्रेस नेता राहुल गाँधी द्वारा किए ‘सरेंडर मोदी’ ट्वीट पर केद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने ज़ोरदार पलटवार किया है. उन्होंने कांग्रेस नेता को बहस की चेतवानी देते हुए कहा, ‘ संसद होनी है, चर्चा करनी है आइए, करेंगे. 1962 से लेकर आज तक दो-दो हाथ हो जाए.’

मैं राहुल गाँधी को सलाह नहीं दे सकता
गृहमंत्री ने कहा, ‘भारत सरकार ने कोरोना के खिलाफ अच्छी लड़ाई लड़ी. मैं राहुल गांधी को सलाह नहीं दे सकता, यह उनकी पार्टी के नेताओं का काम है. कुछ लोग ‘वक्रदंती’ हैं, वे सही चीजों में भी गलत देखते हैं. भारत ने कोरोना के खिलाफ अच्छा संघर्ष किया और हमारे आंकड़े दुनिया की तुलना में बहुत बेहतर हैं.’ 

इस संकट में कांग्रेस नेता ओछी राजनीति कर रहे
राहुल गाँधी द्वारा प्रधानमंत्री को लेकर किये हमलों पर पूछे गए सवाल पर गृहमंत्री ने कहा, ‘हम भारत-विरोधी प्रचार को संभालने में सक्षम हैं, लेकिन इसका दर्द तब है जब एक बड़ी पार्टी (राहुल गांधी) के पूर्व अध्यक्ष एक संकट के दौरान ‘ओछी रजनीती’ करते हैं। उनके और उनकी पार्टी के लिए आत्मनिरीक्षण की बात यह है कि “हैशटैग” ट्वीट पर पाक और चीन द्वारा उनके हैशटैग को प्रोत्साहित किया जा रहा है.’

कांग्रेस को लोकतंत्र पर बात करने का हक़ नहीं 
इंदिरा जी के बाद, क्या गांधी परिवार के बाहर कोई कांग्रेस अध्यक्ष था? वे किस लोकतंत्र की बात करते हैं? मैंने COVID के दौरान कोई राजनीति नहीं की। आप पिछले 10 वर्षों के मेरे ट्वीट को देखें। हर 25 जून को, मैं एक बयान देता हूं: अमित शाह ने आपातकाल के बारे में अपने ट्वीट पर

आपातकाल को लोगों द्वारा याद किया जाना चाहिए
गृह मंत्री ने कहा, ‘आपातकाल को लोगों द्वारा याद किया जाना चाहिए क्योंकि इसने हमारे लोकतंत्र की जड़ों पर हमला किया। किसी भी राजनीतिक कार्यकर्ता या नागरिक को नहीं भूलना चाहिए। इसके बारे में जागरूकता होनी चाहिए। यह किसी पार्टी के बारे में नहीं बल्कि देश के लोकतंत्र पर हमले के बारे में है.’