CHIRAG

रांची, झारखंड में राजनितिक घमासान अपने चरम पर है. विविध हो की झारखंड में 81 विधानसभा सीटों पर 5 चरणों में चुनाव होने वाले है. 30 नवंबर को पहले चरण के लिए मतदान होगा, इसके परिणाम 23 दिसंबर को आएंगे.

रांची, झारखंड में राजनितिक घमासान अपने चरम पर है. विविध हो की झारखंड में 81 विधानसभा सीटों पर 5 चरणों में चुनाव होने वाले है. 30 नवंबर को पहले चरण के लिए मतदान होगा, इसके परिणाम 23 दिसंबर को आएंगे. लेकिन, चुनाव से पहले ही बीजेपी को बड़ा झटका लगा है. झारखंड में बीजेपी के सहयोगी पार्टी ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (आजसू) और लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) ने गठबंधन तोड़ने के संकेत दे दिए थे. वही, आज लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) ने अकेले चुनाव लड़ने का फैसला लिया है. इसी के साथ पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने आज शाम तक पार्टी के उमीदवारों की पहली सूची जारी करने की घोषणा की है.

झारखंड में एलजेपी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा कि, राज्य में चुनाव लड़ने का अंतिम निर्णय प्रदेश इकाई को लेना था. एलजेपी झारखंड प्रदेश इकाई ने यह फैसला लिया की पार्टी 50 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी. आज शाम तक पार्टी के उमीदवारों की पहली सूची का ऐलान हो जाएगा.

वही, दूसरी तरफ बीजेपी की सहयोगी पार्टी आजसू ने पहले ही 12 विधानसभा सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी है. लेकिन इस में से 4 विधानसभा सीटों पर बीजेपी ने अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी. इस 4 विधानसभा सीटों में सिमरिया, सिंदरी, मांडू और चक्रधरपुर का समावेश है. चक्रधरपुर विधानसभा सीट के लिए बीजेपी अपने प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ के नाम की घोषणा की है, लेकिन सोमवार को आजसू ने इसी जगह से अपने एक उम्मीदवार के नाम की घोषणा की.

दूसरी तरफ, झारखंड विधानसभा चुनाव में एलजेपी ने बीजेपी से 6 सीटों की मांग की थी. एलजेपी ने जरमुंडी, नाला, हुसैनाबाद, बड़कागांव, लातेहार और पांकी इन 6 विधानसभा सीटों की मांग की थी. बीजेपी ने अपनी 52 उम्मीदवारों की पहली सूची में जरमुंडी विधानसभा से भी उम्मीदवार के नाम की घोषणा कर दी है. इसके बाद एलजेपी ने अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया था और वह झारखंड की 37 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.