केंद्र सरकार टीकों की बर्बादी पर आंकड़े दुरुस्त करेगी, झारखंड ने दर्ज करायी थी आपत्ति

    रांची: कोविड-19 (COVID-19) के टीकों की कथित बर्बादी के बारे में ‘गलत’ आंकड़े को लेकर झारखंड सरकार (Jharkhand) की लिखित आपत्ति के बाद केन्द्र सरकार (Modi Govt) ने इन आंकड़ों को शीघ्र दुरुस्त करने की बात कही और शीघ्र ही इसके लिए कोविन ऐप पर आंकड़ों को ठीक करने का अधिकार राज्यों को भी देने का आश्वासन दिया। 

    झारखंड में कोविड-19 के टीकाकरण अभियान के नोडल अधिकारी अंजानेयुलु डोडे ने पीटीआई-भाषा को बताया कि राज्य सरकार द्वारा इस संबंध में लिखे गये पत्र पर शुक्रवार को केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने झारखंड सहित चार राज्यों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक की और आंकड़ों को दुरुस्त करने पर अपनी सहमति जतायी। 

    उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार के अधिकारियों ने कोविन ऐप में ही राज्यों को अपने आंकड़ों को दर्ज करने में हुई किसी गलती को सुधारने का अधिकार देने की बात कही। इससे पहले यह अधिकार सिर्फ केन्द्र सरकार के अधिकारियों के पास था। यह पूछे जाने पर कि टीकों की बर्बादी के बारे में केन्द्र द्वारा जारी गलत रिपोर्ट में कब तक सुधार होगा, डोडे ने कहा कि जैसे ही केन्द्र सरकार कोविन ऐप में अपने आंकड़े सुधारने का अधिकार राज्य को दे देगी वैसे ही इन आंकड़ों को सुधार दिया जायेगा। 

    इससे पूर्व झारखंड ने केन्द्र से अपने आंकड़े तत्काल दुरुस्त करने को कहा था क्योंकि केन्द्र सरकार के कोविन ऐप पर अभी भी झारखंड में इन टीकों के 38.45 प्रतिशत अपव्यय की बात कही गयी है जबकि इसके उलट राज्य में टीकों का कुल अपव्यय देश के औसत से कहीं कम सिर्फ 4.65 प्रतिशत ही हुआ है। (एजेंसी)