जीतेन्द्र आव्हाड: जल्द ही फाफड़ा-जलेबी हमारे राष्ट्रीय व्यंजन होंगे

मुंबई, महाराष्ट्र में फिर तंज की राजनीति अपने उफान में है।एक बार फिर एनसीपी के नेता और महा विकास अघाड़ी के मंत्री जीतेन्द्र आव्हाड ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी के

मुंबई, महाराष्ट्र में फिर तंज की राजनीति अपने उफान में है।एक बार फिर एनसीपी के नेता और महा विकास अघाड़ी के मंत्री जीतेन्द्र आव्हाड ने  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी के अन्य नेता किरीट सोमैया पर तंज कसा है। आव्हाड ने एक सभा में यह कहा कि जल्द ही ऐसा होगा कि मोदी , अमित शाह और सोमैया  फाफड़ा, जलेबी और ढोकला को हमारे राष्ट्रीय व्यंजाम घोषित करवा देंगे। 

ठाणे में हुए एक जनसभा ने जितेंद्र आव्हाड ने नरेंद्र मोदी , अमित शाह और किरीट सोमैया पर यह उक्त बयान  देते हुए आगे कहा की "मैं स्वयं 365 दिन चिकन, मटन और  मछली खाता हूं क्यूंकि  हमारी पैदाइश ही वैसी है। लेकिन इसी को लेकर किरीट सोमैया जैसे लोग यह लिखते हैं कि वे गरीब आदिवासी के घर चिकन खाकर आ रहे हैं। उनको यह समझना होगा की हमारे यहाँ गरीब आदिवासी भी वही खाता है क्योंकि वो हमारा खान-पान है। इसमें वे हैरान न हो नहीं तो इनका बस चले तो यह कह देंगे कि हमारा राष्ट्रीय खाना फाफड़ा, जलेबी और ढोकला है"।  

 
विदित हो कि कुछ दिन पहले भी जितेंद्र आव्हाड ने कांग्रेस और दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी पर वक्तव्य दिया  था कि  कि उन्होंने भी लोकतंत्र का गला घोंटने का प्रयत्न किया था।  महाराष्ट्र के बीड में आयोजित संवैधानिक रक्षा महासभा में अपने उद्बोधन में आव्हाड ने कहा था कि, "अपने समय में इंदिरा गांधी ने भी लोकतंत्र का गला घोंटा था। लोकतंत्र का इस प्रकार अपमान करने के बाद भी कोई भी उनके खिलाफ बोल नहीं सकता थ। इसी के चलते अहमदाबाद और पटना में जेपी आंदोलन की शुरुआत हुई, जिसके चलते इंदिरा गाँधी हार गयी थी। जल्द ही महाराष्ट्र और देश में इतिहास फिर वापस दोहराया जायेगा"