JP Nadda

नयी दिल्ली. भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने मंगलवार को कांग्रेस पर आरोप लगाया कि पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन के साथ चल रहे गतिरोध पर लगातार सवाल उठाकर वह “सेना का मनोबल” और उसके “आत्मविश्वास” को कम करने का प्रयास कर रही है। असम जनसंवाद नाम से आयोजित एक डिजिटल रैली के जरिए असम भाजपा के कार्यकर्ताओं को दिल्ली से संबोधित करते हुए नड्डा ने कहा कि चाहे कोविड-19 से लड़ाई की बात हो या फिर चीन के साथ सीमा पर जारी गतिरोध का मसला, कांग्रेस का रवैया ‘‘बहुत गैरजिम्मेदाराना” रहा है।

उन्होंने कहा, “देश संक्रमण काल से गुजर रहा है और विपक्ष को सिवाय छींटाकशी के कुछ नहीं सूझता। इस दौरान विपक्ष का रवैया बहुत गैरजिम्मेदाराना रहा। हमारे जवानों ने एक-एक इंच जमीन की रक्षा करने के लिए दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब दिया और यहां कांग्रेस पार्टी उनके मनोबल और आत्मविश्वास को कमजोर करने का काम कर रही है।” नड्डा ने कहा कि भाजपा लंबे समय तक विपक्ष में रही लेकिन जब भी देश पर संकट आया, भाजपा हमेशा सरकार के साथ खड़ी रही। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से आहवान किया कि वे जनता के बीच जाएं और कांग्रेस ने देश का जो अहित किया है उसे बारे में उन्हें बताएं।

उन्होंने कहा, “यह वही कांग्रेस पार्टी है जिसके नेता डोकलाम के समय चीन के राजदूत के साथ चुपके-चुपके बात कर रहे थे और फिर दुनिया से उसे छुपा रहे थे। चीनी राजदूत ने जब उनका फोटो वायरल किया तब पता चला देश के महान सपूत डोकलाम के समय चीनी राजदूत के साथ गुफ्तगू में लगे हुए थे।” पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम लिए बगैर नड्डा ने उनपर निशाना साधा और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जहां देश लगातार आगे बढ़ रहा है वहीं कांग्रेस के नेता सेना के शौर्य पर सवाल उठा रहे हैं। उन्होंने कहा, “कितना मनोबल गिराओगे भारत की फौज का। सर्जिकल स्ट्राइक का प्रमाण मांगते हो। एयर स्ट्राइक का प्रमाण मांगते हो। इस तरीके से देश चलेगा क्या । कांग्रेस पार्टी के लोगों को मुंहतोड़ जवाब देना है और देश के अहित में कांग्रेस की ओर से किए जा रहे कार्य को जनता तक पहुंचाने का काम भी करना है। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी पर भी नड्डा ने करारा हमला बोला। पेट्रोल और डीजल की कीमतों को लेकर सरकार को घेरने के उनके प्रयास पर नड्डा ने कहा कि सोनिया गांधी को पहले यह सवाल कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से पूछना चाहिए।”

उन्होंने कहा, ‘‘सोनिया गांधी बोलती हैं कि पेट्रोल के दाम बढ़ा दिए। आपने पूछा कि छत्तीसगढ़, राजस्थान और महाराष्ट्र में कीमतें कैसे बढ़ गई। इन राज्यों में कांग्रेस की सरकारें हैं। आपकी सरकार है। क्या आपसे पूछकर वे फैसले नहीं लेती।” कोविड-19 के संबंध में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में पारित किए गए प्रस्ताव का जिक्र करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि इसमें जितने भी सवाल उठाए गए हैं वह सभी काम राज्यों के अधीन हैं न कि केंद्र के।

उन्होंने कहा, ‘‘जो पार्टी इतने सालों तक सत्ता में रही हो, उसको इतना भी ध्यान में ना रहे कि केंद्र के जिम्मे क्या काम है और प्रदेश के जिम्मे क्या काम, तो वह पार्टी देश को क्या दिशा देगी। वह प्रदेशों को क्या दिशा देगी।” जम्मू एवं कश्मीर से धारा 370 हटाने, तीन तलाक, अयोध्या में राम मंदिर सहित उन्य कई विषयों का जिक्र करते हुए नड्डा ने कहा कि मोदी सरकार का दूसरे कार्यकाल का पहला साल उपलब्धियों का रहा है ।

उन्होंने कहा, ‘‘जो काम छह दशक में नहीं हुए वह काम इस एक साल में हुआ है। मोदी जी ने देश को ऊपर ही नहीं उठाया, आगे ही नहीं ले गये बल्कि देश को दुनिया में एक शक्तिशाली देश के रूप में स्थापित किया। यह एक वर्ष उपलब्धियों का वर्ष भी रहा और आपदा से लड़ने में भी पारंगत हासिल करने का वर्ष भी है।” रैली के आरंभ में पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीन के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए 20 भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

नड्डा और उनके साथ मंच पर मौजूद पार्टी महासचिव राम माधव सहित तमाम कार्यकर्ताओं ने दो मिनट का मौन रख शहीदों को श्रद्धांजलि दी। जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के बलिदान दिवस पर भी पार्टी कार्यकर्ताओं ने उनके योगदान को याद किया और उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण का पुष्पांजलि अर्पित की। (एजेंसी)