सिंधिया एकमात्र नेता जो कभी भी मुझसे मिलने आ सकते थे : राहुल गांधी

नई दिल्ली. मध्यप्रदेश में सियासी संग्राम जारी है। ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा में शामिल हो गए है जिसके बाद अब कांग्रेसी नेताओं की प्रतिक्रिया आ रही है। सिंधिया ने कांग्रेस छोड़ने से पहले सोनिया गांधी

नई दिल्ली. मध्यप्रदेश में सियासी संग्राम जारी है। ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा में शामिल हो गए है जिसके बाद अब कांग्रेसी नेताओं की प्रतिक्रिया आ रही है। सिंधिया ने कांग्रेस छोड़ने से पहले सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मिलने की कोशिश की थी। लेकिन उन्हें समय नहीं मिल पाया था। जिस पर अब खुद राहुल गांधी ने स्पष्टीकरण दिया हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि, "सिंधिया को मुलाकात का वक्त न देने की बात गलत है। वह कभी भी मुझसे मिलने आ सकते थे। वह ऐसे एकमात्र ऐसे व्यक्ति रहे जो कभी भी मेरे पास सीधे आ सकते थे।"

यह भी पढ़े – कमलनाथ और दिग्विजय सिंह का पुत्र मोह बना टूट का कारण?

जानकरी के लिए बतादें कि पिछले कुछ दिनों से राज्यसभा सीट के लिए कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया में घमासान शुरू था। इस बीच सिंधिया खेमे के 17 विधायक बेंगलुरु पहुँच गए और अपना फोन बंद कर दिया। इसमें 6 मंत्री भी शामिल थे।

यह भी पढ़े – मध्यप्रदेश संकट: बागी विधायकों ने विडियो किया जारी, किया समर्थन

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आज भाजपा में शामिल होने ही कांग्रेस पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, "कांग्रेस अब पहले वाली पार्टी नहीं रही है जैसे वह हुआ करती थी।"

सिंधिया ने यह भी कहा कि, "देश के इतिहास में शायद किसी को भी इतना बड़ा जनादेश नहीं मिला जितना कि एक बार नहीं दो बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मिला है।"

यह भी पढ़े – राज्यसभा चुनाव: भाजपा ने सिंधिया को बनाया मध्यप्रदेश से उम्मीदवार