i-used-to-be-a-drug-addict-kangana-ranaut-video-viral

मुंबई/शिमला. अभिनेत्री कंगना रनौत (Actress Kangana Ranaut) ने सोमवार को मुंबई से अपने गृह राज्य हिमाचल प्रदेश (Himachal prades) रवाना होते हुए कहा कि उन्हें ‘‘लगातार हमलों तथा अपशब्दों” से डराया जा रहा है और उनका मुंबई (Mumbai) की तुलना पाकिस्तान (Pakisatan) के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) (POK) से करना ‘बिल्कुल सही’ था। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (Himachal cm jayram thakur) ने घर आने पर कंगना का स्वागत किया और शिवसेना-कांग्रेस-राकांपा नीत महाराष्ट्र सरकार पर उन्हें परेशान करने का आरोप लगाया। अभिनेत्री की टिप्पणी के बाद उनका महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ शिवसेना के साथ विवाद शुरू हुआ था। वह पिछले सप्ताह हिमाचल प्रदेश के मनाली स्थित अपने घर से कुछ वक्त के लिए मुंबई आयी थीं। उसी दिन शिवसेना नीत बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने उनके दफ्तर में हुए कथित ‘‘अवैध” निर्माण को गिराया था। इसके बाद उन्होंने बंबई उच्च न्यायालय का रुख किया था, जिसने तोड़फोड़ की कार्रवाई पर रोक लगाई थी।

रनौत ने ट्वीट किया, ‘‘भारी मन से मुंबई छोड़ रही हूं। इन दिनों जिस तरह से मुझे डराया गया, लगातार हमले किए गए और मुझे अपशब्द कहे गए, मेरे दफ्तर के बाद मेरे घर को तोड़ने की कोशिशें हुईं और मेरे आसपास हथियारबंद सुरक्षा कर्मी रहे, उसे देखते हुए मैं कहूंगी कि पीओके से (मुंबई की) तुलना करना एकदम सही थी।” सत्तारूढ़ शिवसेना पर निशाना साधते हुए 33 वर्षीय अभिनेत्री ने कहा कि रक्षा करने वाले ही ‘‘विनाशक” बन गए हैं और अब लोकतंत्र को खत्म करने की ओर बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन उनकी यह समझ गलत है कि, मैं कमजोर हूं। एक महिला को डरा-धमका कर, वे अपनी छवि खराब कर रहे हैं।”

रनौत ने रविवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से राज भवन में मुलाकात की थी और उन्हें अपने साथ हुए ‘‘अन्याय” से अवगत कराया था। रनौत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की जून में हुई मौत के बाद से फिल्म जगत और उसके काम करने के तरीके की लगातार आलोचना कर रही हैं। उन्होंने शुरू में कहा था कि यह खुदकुशी नहीं हैं, बल्कि फिल्म उद्योग द्वारा ‘‘सुनियोजित हत्या” है, जो बाहर से आए लोगों को स्वीकार नहीं करती है। अभिनेत्री ने शहर में कथित मादक पदार्थ सिंडिकेट को लेकर भी हमला बोला और महाराष्ट्र सरकार पर भी निशाना साधा तथा मुंबई की तुलना पीओके से कर दी, जिसके बाद विवाद शुरू हो गया। शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत के साथ उनके विवाद की वजह से अभिनेत्री को वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा दी गई। इस श्रेणी की सुरक्षा पाने वाले व्यक्ति के आसपास हर वक्त 10 सशस्त्र कमांडो मौजूद रहते हैं।

पिछली बार मुंबई आने पर बीएमसी ने कंगना को 14 दिन के गृह पृथक-वास के नियम से छूट दे दी थी। अभिनेत्री ने ऑनलाइन आवेदन करके अपने संक्षिप्त दौरे का हवाला देते हुए छूट का अनुरोध किया था। शिमला में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि अभिनेत्री को राज्य सरकार द्वारा सुरक्षा मुहैया करायी जाती रहेगी। संजय राउत की टिप्पणी के संबंध में सवाल करने पर ठाकुर ने कहा कि वरिष्ठ नेता से ऐसी टिप्पणी की आशा नहीं थी और पूरे देश ने इसकी आलोचना की। उन्होंने दावा किया कि महाराष्ट्र सरकार ने अभिनेत्री को हर तरह से परेशान किया है। ठाकुर ने कहा कि सिर्फ कंगना रनौत ही नहीं, हिमाचल प्रदेश के लोग भी इससे अपमानित महसूस कर रहे हैं। (एजेंसी)