kolkata-fire

    कोलकाता. अब तक प्राप्त समाचारों के अनुसार पश्चिम बंगाल (West Bengal) के कोलकाता (Kolkata) में स्ट्रैंड रोड पर बीते सोमवार शाम को न्यू कोयलाघाट बिल्डिंग की 13वीं मंजिल पर लगी आग (Fire) की घटना में मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 9 लोगों की मौत हो चुकी है।  गौरतलब है कि इस बिल्डिंग में ईस्टर्न रेलवे (Eastern Railways) का कार्यालय है।  वहीं इस हादसे में मरने वालों में 2 रेलवे पुलिसकर्मी भी हैं। 

    टिकट बुकिंग बुरी तरह से प्रभावित :

    बता दें कि आग लगने कि इस घटना से कोलकाता पैसेंजर रिजर्वेशन सर्विस (PRS) का सर्वर पूरी तरह ठप्प हो चूका है।  वहीं सर्वर के डाउन होने के चलते पूर्वी भारत में कंप्यूटराइज टिकट बुकिंग भी प्रभावित हुई है।  इधर रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने इस घटना पर अपना शोक जाहिर करते हुए कहा कि इस त्रासदी में 4 दमकलकर्मी, 2 रेलवे कर्मी और एक ASI समेत 9 लोगों की जान जा चुकी है।  इसके साथ ही मंत्री पीयूष गोयल ने रेलवे की तरफ से राज्य सरकार को हर संभव मदद का आश्वासन भी दे चुके हैं।  इस पर पीयूष गोयल ने ट्वीट करके जानकारी देते हुए कहा कि, आग के कारण पता करने हेतु  रेलवे के 4 अधिकारियों के नेतृत्व में एक उच्चस्तरीय जांच कमेटी बनाई गई है। 

    इस दुखद घटना पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपना दुःख व्यक्त किया है।  इसके साथ ही उन्होंने साथ ही हादसे में मरने वालों के परिजनों को 2 लाख रुपये एवं घायलों को 50 हजार रुपये की मदद देने का ऐलान भी किया है। 

    इधर, ईस्टर्न रेलवे की जानकारी के मुताबिक अब तक आग लगने की वजह पूरी तरह से साफ नहीं हो पायी है।  हालाँकि रेलवे ने इस हादसे की उच्चस्तरीय जांच का आदेश दे दिया है।  फिलहाल घटनास्थल पर जांच कार्य जारी है। 

    मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसे  बताया दुखदायी घटना:  

    वहीं घटना स्थल पर पहुंचीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसे बहुत ही  दुखदायी घटना बताया है।  वहीं उन्होंने एलान किया कि मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी और परिवार के एक सदस्य को नौकरी भी दी जाएगी।  इसके साथ ही CM ममता बनर्जी का कहना था कि जिस बिल्डिंग में आग लगी है वो रेलवे की है।  लेकिन रेलवे ने अब तक बिल्डिंग का नक्शा उपलब्ध नहीं कराया है। 

    दरअसल मुख्यमंत्री ने गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि दुर्घटना में जिनकी मृत्यु हुई है, राज्य सरकार मृतकों के परिजनों के प्रति पूरी तरह खड़ी है और उन्हें हर संभव मदद करने को तैयार है।  बता दें कि आग लगने की घटना के बाद मुख्यमंत्री भी घटनास्थल का जायजा लेने के लिए पहुंची थी।  वहीं तब मुख्यमंत्री ने कहा था कि यह बिल्डिंग रेलवे के अंतर्गत है, लेकिन बावजूद इसके रेलवे का कोई भी अधिकारी अभी तक घटनास्थल का दौरा करने नहीं पहुंचा है।