आज रात 12 बजे से पूरे देश में लॉक डाउन: प्रधानमंत्री मोदी

नई दिल्ली: कोरोना वायरस को रोकने के लिए देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा ऐलान किया हैं. प्रधानमंत्री ने देश के अंदर 21 दिनों की लॉक डाउन का घोषणा किया हैं. इसी के साथ किसी को

नई दिल्ली: कोरोना वायरस को लेकर मंगलवार को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा निर्णय लिया. प्रधानमन्त्री ने घोषणा करते हुए कहा, " लोगों को बचाने के खातिर आज रात 12 बजे से देश को 21 दिनों लिए लॉक डाउन किया जारहा हैं. इस दौरान किसी को भी घर से बाहर निकलने की इजाज़त नहीं होंगी. इसी के साथ इस लॉक डाउन को कर्फ्यू ही माना जाए. इसी के साथ इस महामरी से लड़ने के लिए सरकार 15 000 करोड़ का प्रावधान किया हैं."

जनता कर्फ्यू सफ़ल बनाया
देश को दूसरी बार संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, " मेरे प्यारे देशवासियों 22 मार्च को हमने जो प्राण लिया था उसको देश के करोडो लोगों ने सिद्ध कर दिया हैं. जनता कर्फ्यू को सफल बनाने के लिए देशवासियों ने पूरा सहयोग दिया. इस मुश्किलघड़ी में बच्चों से लेकर बुजुर्गो, गरीब अमीर, बड़ा छोटा सभी साथ आए. इस अभियान में शामिल होकर हमने दिखा दिया की देश पर आए संकट को सभी भारतीय मिलकर, एक जुट होकर मुकाबला करते हैं. 

महामारी ने समर्थ देशो को किया बेबस 
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, " इस वैश्विक महामारी ने दुनिया के हर क्षेत्र में परिपूर्ण, और समर्थ देशो को किस तरह बेबस कर दिया हैं. अमेरिका, इटली जैसे देश जहां स्वस्थ्य सुविधाए कई गुना अच्छी हैं. वह देश इस महामारी के सामने पस्त हैं." उन्होंने कहा, "लोगों द्वारा सरकारी नियम नहीं मानाने का ही परिणाम हैं की चीन, अमेरिका, इटली, जर्मनी, ईरान जैसे देशो में हालत हद से ज्यादा बेकाबू होगए."

सोशल डिस्टेंसिंग एक मात्र इलाज 
प्रधानमंत्री ने कहा, " इस महामारी से बचने का सिर्फ़ एक ही इलाज वह हैं सोशल डिस्टेंसिंग. इसके अलावा और कोई दूसरा उपाय नहीं हैं. पिछले दो महीने में किए अध्ययान से यही निष्कर्ष निकलन हैं. इस महामारी से बचने के लिए हमें इसकी चैन को तोड़ना पड़ेगा." उन्होंने कहा, " कई लोगों को ग़लतफ़हमी हैं की यह सिर्फ़ इससे  संक्रमित लोगों के लिए हैं. यह गलत हैं यह हर नागरि, हर परिवार के लिए हैं." 

लॉक डाउन को गंभीरता से पालन करे 
मोदी ने कहा, " पिछले दो दिनों से देश के कई राज्यों में लॉक डाउन लगाया हुआ हैं. जिसका पालन नहीं किया जारहा हैं. इसे गंभीरता से ले." उन्होंने कहा, "कुछ लोगों की गलत सोच, लापरवाही आप के बच्चों, परिवार, दोस्तों को बड़ी मुश्किल में डाल सकती हैं. "

उठानी होंगी आर्थिक कीमत
प्रधानमंत्री ने कहा," देश में लगाए गए लॉक डाउन के वजह से निश्चित तौर पर इसकी आर्थिक कीमत देश को उठनी पड़ेगी. मौजूदा समय में मेरी, केंद्र की सरकार, राज्यों की सरकार, स्थानीय निकायों का पहली और बड़ी प्राथमिकता एक एक  भारतीयों का जीवन बचाना हैं."

आने वाले 21 दिन सबसे महत्वपूर्ण 
कोरोना से बचने के लिए आने वाले 21 दिन सबसे महत्वपूर्ण हैं. इस महामारी से लड़ने के लिए, इसकी चैन को तोड़ने के लिए 21 दिन बहुत अहम समय हैं. इसका उपाय और विकल यही हैं. जिन देशों ने इस महामारी से लड़कर बाहर आए हैं, उन देशो के अनुभवों के बाद यह निर्णय हुआ हैं. 

एक कदम आप को 21 साल पीछे करेगा
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, " यह 21 दिन में हमारा निर्णय हमारे अगले कदम तय करेगा. अगर इस दौरान आप ने अपने घर की लक्ष्मण रेखा पार की तो आप अपने घर में कोरोना को बुलाएगे." उन्होंने कहा, " अगर हमने यह नहीं माना तो हम 21 साल पीछे होजाएगे. कितने परिवारों में मातम छा जाएगा."

जोखिम में डालने वालों के लिए दुआ करे 
प्रधानमंत्री ने कहा, " इस दौरान आप उन लोगों के लोए प्रताहन करे जो आप को बचाने आप के परिवार को बचाने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल कर काम में लगे हुए हैं. आप डॉक्टर्स, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ के लिए प्राथना करे, मीडिया, पुलिस वालों के लिए, सफाई कर्मचारियों, के लिए प्राथना करे जो 24 घंटे लोगों  को बचाने में लगे हुए हैं.

सरकार ने 15,000 करोड़ का फण्ड किया तैयार 
नरेंद्र मोदी ने कहा, " इस महामारी से लड़ने के लिए सरकार ने 15,000 करोड़ रुपए का प्रावधान किया हैं. जिससे देश के हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर और कोरोना से लड़ने के लिए और मजबूत किया जा सके." उन्होंने कहा, " कोरोना से जुड़ी टेस्टिंग फेसिलिटीज,पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्वीपमेंट्स, आइसोलेशन बेड्स, आईसीयू बेड्स, वैंटिलेटर्स और अन्य जरूरी साधनों की संख्या तेजी से बढ़ाई जाएगी."

सरकार ने सभी चीजों का किया प्रबंध 
प्रधानमंत्री ने कहा," इस दौरान होने वाली परिशानियों को कम करने के लिए केंद्र और राज्य सरकारे बड़ी तेजी से काम कर रही हैं. इसी के साथ रोज इस्तमाल होने वाले वस्तुयों की पूरी व्यवस्था सरकार ने किया हुआ हैं."