लॉक डाउन ने हवा को किया साफ़, रिकॉर्ड स्तर पर प्रदुषण हुआ कम

नई दिल्ली: कोरोना वायरस पूरे देश में तेजी से फैलता जारहा हैं. जिसको रोकने के लिए पूरे देश में लॉक डाउन लगा दिया गया हैं. कोरोना के प्रसार को कम करने के लिए इस निर्णय ने देश की हवा को पूरी तरह साफ कर

नई दिल्ली: कोरोना वायरस पूरे देश में तेजी से फैलता जारहा हैं. जिसको रोकने के लिए पूरे देश में लॉक डाउन लगा दिया गया हैं. कोरोना के प्रसार को कम करने के लिए इस निर्णय ने देश की हवा को पूरी तरह साफ कर दिया हैं. देश के सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में हवा बिलकुल साफ़ है. प्रदुषण रिकॉर्ड स्तर पर कम हुआ हैं. इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता हैं कि वायु प्रदूषण के ऊपर नज़र रखने वाली  संस्था ‘सफर’ का प्रदूषण मैप हरा हो चुका है. जिसको देख कर सभी पर्यावरण वादी बहुत खुश हैं. 

देश के सभी प्रदूषित शहर हुए साफ़ 
कोरोना वायरस को रोकने के लिए लगाए गए लॉक डाउन के सकारात्मक नतीजे भी आरहे हैं. देश के 102 सबसे प्रदूषित शहरों में से 85 मौजूदा वक़्त में सबसे साफ नज़र आ रहे हैं. मतलब इन शहरों में हवा पूरी तरह साफ़ हो चूका हैं. यहाँ के लोग पूरी तरह साफ हवा में साँस ले रहे हैं. 

राजधानी दिल्ली पूरी साफ़ 
प्रदुषण राजधानी दिल्ली की  सबसे बड़ी समस्या रही हैं. ठण्ड के दिनों में हालत और गीर जाता हैं. लेकिन लॉक डाउन के तीन दिनों के अंदर ही हवा पूरी रहा साफ़ होगई हैं. पीएम-10 जहां सामान्‍य लेवल से नीचे सिर्फ 58 पर आ गया है. जबकि पीएम 2.5 भी 31 एमजीसीएम रह गया है. यह अपने आपमें रिकॉर्ड है. वही 21 तारिक को दिल्ली की हवा बेहद ख़राब थी.

लॉक डाउन ने वो काम किया जो करोडो खर्च कर के नही हुआ 
वायु प्रदुषण में आई रिकॉर्ड गिरावट पर पर्यावरण वादी बेहद खुश हैं. लॉक डाउन की तारीफ करते हुए कहा कि जो काम इतने करोड़ो रुपए खर्च कर के भी नहीं हुआ वो तिन दिन के बंद ने कर दिया. इस के साथ आने वाले दिनों में भी इस तरह के कदम उठाने का शुझाव दिया जिससे हवा साफ़ रहे.

इन शहरों में हवा हुई साफ़ 
लॉक डाउन के वजह से राजधानी दिल्ली, पुणे, मुंबई, अहमदाबाद, गाजियाबाद, गुरुग्राम, फरीदाबाद, पलवल, लखनऊ, बुलंदशहर, जींद, भिवाड़ी और हिसार में   हवा पूरी तरफ साफ़ हैं. आने वाले दिनों में सारे शहर पूरी तरह साफ होजएगे.