लोकसभा हंगामा: कांग्रेस के सात सांसद बजट सत्र से निलंबित

नई दिल्ली:दिल्ली हिंसा को लेकर लगातार चार दिनों से हंगामा करने वाले कांग्रेसी सांसदों पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कड़ा कदम उठाया हैं. स्पीकर ने गुरुवार को कांग्रेस के गौरव गोगोई, टीएन प्रथपन,

नई दिल्ली: दिल्ली हिंसा को लेकर लगातार चार दिनों से हंगामा करने वाले कांग्रेसी सांसदों पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कड़ा कदम उठाया हैं. स्पीकर ने गुरुवार को कांग्रेस के गौरव गोगोई, टीएन प्रथपन, डीन कुरीकोस, आर उन्नीथन, मनिकम टैगोर, बेनी बेहन और गुरजीत सिंह औजला को पुरे बजट सत्र के लिए निलंबित कर दिया हैं. संसद में हंगामा करने और कार्यवाही बधित करने के आरोप पर यह कदम उठाया गया है. 

गौरतलब है कि, पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर कांग्रेस गृहमंत्री अमित शाह के इस्तीफे को लेकर संसद के दोनों सदनों पर पिछले चार दिनों से हंगामा कर रही हैं. इसी के चलते सांसद की कार्यवाही को बार बार स्थगित करना पड़ा. वहीँ मंगलवार को हंगामे के दौरान भाजपा और कांग्रेस के महिला सांसदों के बीच धक्का मुक्की तक होगई थी. दोनों पार्टी के सांसद एक दुसरे पर धक्का देने का आरोप तक लगाया. संसद में शुरू हंगामे को लेकर लोकसभा स्पीकर ने नाराजगी जताते हुए कहा था, " जब तक सांसद खुद तय करले की सदन को कैसा चलाना हैं. वैसा ही चलाया जाएगा." 

तानाशाही वाला निर्णय 
कांग्रेस ने लोकसभा से अपने सांसदों के निलंबन का कड़ा विरोध किया हैं. लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, " क्या यह तानाशाही है? ऐसा लगता है कि सरकार नहीं चाहती है कि दिल्ली हिंसा पर कोई चर्चा हो.  यही कारण हैं जिसके वजह से निलंबन हुआ हैं. हम इसका कड़ा विरोध करते हैं." 

स्पीकर के साथ की बत्तमीजी 
केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कांगेस के सांसदों के निलंबन को सही ठहराते हुए कहा, " कांग्रेस के सांसदों का अहंकार और अनुशासनहीनता सातवे असमान में पहुच गया हैं. उन्होंने कागज के कुछ टुकड़े सीधे लोकसभा अध्यक्ष की कुर्सी पर फेका. यह पूरी तरह अनुचित और निंदनीय हैं."