मध्यप्रदेश संकट: मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कैबिनेट की भंग, वहीँ सोनिया से मिलने पहुंचे सिंधिया

भोपाल: मध्यप्रदेश में शुरू राजनितिक संकट और गहराते जा रहा हैं. इसी बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ से अपनी कैबिनेट को भंग कर दिया हैं. इसी के बाद जल्द ही सरकार की नई कैबिनेट का गठन करेगे. प्रदेश में शुरू

भोपाल: मध्यप्रदेश में शुरू राजनितिक संकट और गहराते जा रहा हैं. इसी बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ से अपनी कैबिनेट को भंग कर दिया हैं. इसी के बाद जल्द ही सरकार की नई कैबिनेट का गठन करेगे. प्रदेश में शुरू राजनितिक उठापठ को लेकर सोमवार रात को मुख्यमंत्री आवास पर कैबनेट की बैठक बुलाई थी. जिसके बाद यह निर्णय लिया गया. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मौजूदा भाजपा विधायको को सरकार में शामिल करने के लिए यह बड़ा निर्णय लिया गया हैं. 

20 मंत्रियों ने दिया इस्तीफ़ा 
प्रदेश में सरकर को बचाने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ आखरी चाल चल दी हैं. सोमवार शाम 10.30 बजे को मुख्यमंत्री आवास पर कैबिनेट की बुलाई बैठक थी. जिसके बाद मुख्यमंत्री ने अपने सभी 22 कैबिनेट मंत्रियों से इस्तीफ़ा ले लिया. उसी के साथ नए तरह से कैबिनेट गठन करने घोषण की. वहीँ इस बैठक में सिंधिया समर्थक मंत्री अनुपस्तिथ थे. मुख्यमंत्री द्वारा बुलाई इस बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी मौजूद थे.

बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए मंत्री पीसी शर्मा ने कहा, " सरकार के 20 मंत्रियों ने अपना इस्तीफ़ा मुख्यमंत्री को सौप दिया है. साथ में नई कैबिनेट गठन करने का निवेदन किया था. उन्होंने कहा, " भाजपा द्वारा किए जारहे काम को कभी सफल नहीं होने दिया जाएगा."

यह भी पढ़े: कांग्रेस को झटका, ज्योतिरादित्य सिंधिया हो सकते है भाजपा में शामिल : सूत्र

सरकार गिरने की कोशिश में लोगों को सफल नहीं देगें
सरकार को लेकर सुरु संकट के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बयान जारी करते हुए कहा, " मध्यप्रदेश की जनता ने उन्हें प्रेम और स्नेह के साथ सरकार बनाई हैं और वह किसी भी कीमत पर इस सरकार को गिरने की कोशिश में लगे असामाजिक तत्वों को सफल नहीं देगें." उन्होंने कहा, " प्रदेशमे भाजपा ने 15 साल में माफिया राज चलाया है जिसको हटाने के लिए जनता ने कांग्रेस की सरकार बनाई हैं. वहीँ अब वही माफिया का समर्थन लेकर भाजपा कांग्रेस सरकार को गिराने में लगी हैं." 

नाराज सिंधिया कांग्रेस अध्यक्ष से मिलने पहुंचे 
कमलनाथ से नाराज चल रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी से मिलने उनके आवास 10 जनपथ पहुंचे हैं. मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस अध्यक्ष से मिलकर उनको किए जारहे नजरंदाज़ को लेकर अपनी नाराजगी जताई हैं. साथ में उन्हें सम्मान नहीं मिलने पर बड़ा निर्णय लेने की जानकारी भी दी हैं. बतादें कि मंगलवार को ज्योतिरादित्य के पिता माधवराव सिंधिया की 75 जयंती हैं. उसी लेकर ग्वालियर में बड़ा आयोजन किया गया हैं. 

भाजपा ने बुलाई विधायक दल की बैठक 
प्रदेश में शुरू सियासत पर भाजपा कड़ी नज़र बनाए हुए हैं. इसी को लेकर भाजपा अध्यक्ष नड्डा ने दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह के साथ बैठक की. जिसके बाद भाजपा ने जुबली हिल्स स्तिथ प्रदेश कार्यालय में सभी विधायकों की बैठक बुलाई हैं. उसी के साथ प्रदेश के सभी सांसदों को भी बैठक में मौजूद रहने का निर्देश दिया हैं. 

भाजपा ने इस बैठक में प्रदेश के सभी बड़े नेता, केंद्रीय मंत्रियों के साथ प्रदेश प्रभारी विनय सहस्बुद्धे को पहुचने का निर्देश दिया हैं.