मध्यप्रदेश संकट: सिंधिया समर्थक 17 विधायक पहुंचे बंगलुरु, मोबाइल किया बंद

भोपाल: राज्य से शुरू राजनितिक संकट अपने चरम पर पहुँच गया हैं. पिछले छह दिन से गायब कांग्रेस विधायको के बाद अब सिंधिया समर्थक विधायक बंगलुरु पहुँच गए हैं. वहीँ कांग्रेस नेतुत्व ने दोनों नेताओं में

भोपाल: राज्य से शुरू राजनितिक संकट अपने चरम पर पहुँच गया हैं. पिछले छह दिन से गायब कांग्रेस विधायको के बाद अब सिंधिया समर्थक विधायक बंगलुरु पहुँच गए हैं. इसी के साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत सभी नेताओ ने अपने फ़ोन भी बंद कर दिया हैं. वहीँ कांग्रेस नेतुत्व ने दोनों नेताओं में सुलह कराने की ज़िम्मेदारी वरिष्ठ नेता कर्ण सिंह को सौपा हैं. 
 

सिंधिया समर्थक पहुंचे बंगलुरु 
मिली जानकारी के अनुसार राज्यसभा सीट को लेकर शुरू सिंधिया और कमलनाथ के बीच शुरू विवाद के बैठक के बीच सोमवार को सिंधिया खेमे के 17 विधायक बंगलुरु पहुँच गए हैं. इन में से कई सरकार में मंत्री भी हैं. बंगलुरु पहुंचे विधायक में राजवर्धन सिंह प्रद्युम्न सिंह तोमर, बंकिम सिलावट, गिरिराज, सुश्री रक्षा, जसवंत जाटव, सुरेश धाकड़, जजपाल सिंह, बृजेंद्र यादव, पुरषोत्तम पाराशर शामिल हैं. सभी ने अपने मोबाइल भी बंद कर दिया है, जिससे उनके साथ संपर्क नहीं किया जासके.

यह भी पढ़े: मध्य प्रदेश संकट: मुझे गृहमंत्री बनना हैं: निर्दलीय विधायक शेरा

कर्ण सिंह पर सुलह की ज़िम्मेदारी 
मध्यप्रदेश कांग्रेस के दो बड़े नेताओं के बीच शुरू विवाद को ख़त्म करने के लिए कांग्रेस नेतुत्व ने पार्टी के वरिष्ठ नेता कर्ण सिंह को ज़िम्मेदारी सौपी हैं. दिल्ली के चाणक्यपुरी स्थिति आवास पर कर्ण सिंह समेत दोनों नेता मौजूद हैं. 

प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए बनाया जारहा दवाब 
सिंधिया खेमे के विधायक और मंत्री अचानक गायब होने के बाद राज्य में कमलनाथ सरकार पर संकट के बादल गहराने लगा हैं. वहीँ कांग्रेस अलाकामन के ऊपर सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष बनाने को लेकर दवाब बनाने की रणनीति के तहत यह किया जरह हैं. 

राज्यसभा के लिए एक भी आवेदन नहीं 
राज्य में तीन सीटो पर होने वाले राज्यसभा चुनाव की अधिसूचना जारी कर चूका हैं. जिसकी अंतिम तिथि 13 मार्च 2020 को हैं. लेकिन अभी तक ना कांग्रेस से और ना ही भाजपा से कोई नामांकन दाखिल हुआ हैं. 

कमलनाथ ने की सोनिया से मुलाकात 
पार्टी में शुरू राजनीतिक उठापठक के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी से दिल्ली में स्तिथ आवास पर मुलाकात की हैं. मुलाकात के बाद निकले मुख्यमंत्री ने कहा, " कांग्रेस अध्यक्ष के साथ हर मुद्दे पर बात हुई हैं. मौजूदा राजनितिक परिस्तिथि पर भी." उन्होंने कहा," केंद्रीय  नेतुत्व जी भी निर्देश देगा उसका पालन किया जाएगा."