modi-uddav

    नयी दिल्ली/मुंबई. आज यानी मंगलवार को महाराष्ट्र के मुख्यंमत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackearay) और राज्य के उप-मुख्यमंत्री अजित पवार (Ajit Pawar) की अगुवाई वाला प्रतिनिधिंडल, प्रधानमंत्री मोदी (Narendra Modi) से मुलाकात करेगा। इस बाबत राज्य के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने बीते सोमवार को बताया कि PM मोदी के साथ मुलाकात के दौरान मराठा आरक्षण, ओबीसी आरक्षण और चक्रवाती तूफान से राहत को लेकर चर्चा की जाएगी।

    लेकिन इससे पूर्व, महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने बीते रविवार को कहा कि राज्य सरकार अन्य समुदायों को मिल रहे आरक्षण में छेड़छाड़ किए बिना मराठाओं को आरक्षण देने के ‘‘हरसंभव प्रयास’’ कर रही है। गौरतलब है कि पवार की यह टिप्पणियां तब आयी है, जब दो दिन पहले उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश दिलीप भोसले की अध्यक्षता वाली समिति ने अपनी रिपोर्ट में सिफारिश की थी कि महाराष्ट्र सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर करे।

    बता दें कि पवार 1674 में शिवाजी महाराज के ‘‘छत्रपति’’ के रूप में राज्याभिषेक की वर्षगांठ पर ‘‘शिव स्वराज्य दिन’’ के चलते पुणे जिला परिषद कार्यालय में कुछ पत्रकारों से बात कर रहे थे। इसके साथ ही अब से महाराष्ट्र सरकार ने राज्याभिषेक दिवस को स्थानीय निकायों, स्कूलों, कॉलेजों और मकानों की छत पर ‘गुड़ी’ लगाकर ‘‘शिव स्वराज्य दिन’’ के रूप में मनाने का फैसला किया है।

    इस मुद्दे पर अजित पवार का कहना था कि, “हम मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में मराठा समुदाय को आरक्षण देने के लिए हरसंभव प्रयास कर रहे हैं, जिसे उच्चतम न्यायालय ने रद्द कर दिया है।” उन्होंने कहा था कि उच्चतम न्यायालय ने एमसी गायकवाड आयोग की रिपोर्ट पर सवाल उठाए थे, जो मराठा आरक्षण पर आधारित थी, लेकिन कुछ लोग अब भी जन भावनाओं को भड़काने की कोशिश कर रहे हैं।

    विदित हो कि उपमुख्यमंत्री पवार पूर्व पार्षद नरेंद्र पाटिल के बयान पर एक सवाल का जवाब दे रहे थे। पाटिल ने कहा था कि उनके जैसा एक ‘‘सच्चा मराठा’’ चुप नहीं बैठेगा और अगर जरूरत पड़ी तो वह अपने शरीर में बम लगाएंगे और आरक्षण के लिए इसमें विस्फोट कर देंगे। उपमुख्यमंत्री ने कहा, ” इस मौके पर मैं लोगों और खासतौर से मराठा समुदाय के लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि हमारी सरकार यह सुनिश्चित करने के प्रयास कर रही है कि मराठाओं को अन्य समुदायों के आरक्षण को छेड़े बिना आरक्षण मिल जाए।”

    इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने मराठा आरक्षण मुद्दे पर महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की थी। BJP के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस के बयान के बारे में पूछे जाने पर वरिष्ठ NCP नेता ने कहा, “इस मुद्दे को बीते 14 महीने बीत चुके हैं और अब हम आगे बढ़ चुके हैं।” बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा था कि अजित पवार के साथ सरकार बनाना एक बड़ी गलती थी।