सेना को आत्मनिर्भर बनाने में मिली बड़ी सफलता, DRDO ने MPATGM मिसाइल का किया सफल परिक्षण

    नई दिल्ली: भारतीय सेना (India Army) को मजबूत बनाने और रक्षा के क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर (Self Dependent) बनाने की योजना में बड़ी सफलता मिली है। बुधवार को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (Defence Research & Development Organisation) (DRDO) ने आज स्वदेशी रूप से विकसित कम वजन, फायर एंड फॉरगेट मैन-पोर्टेबल एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल (Fire and Forget Man-Portable Anti-Tank Guided Missile) (MPATGM) का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। 

    इस परीक्षण की जानकारी देते हुए बताया कि, “मिसाइल को थर्मल साइट के साथ एकीकृत मानव-पोर्टेबल लांचर से लॉन्च किया गया था और लक्ष्य एक टैंक की नकल कर रहा था। मिसाइल ने सीधे हमले मोड में लक्ष्य को मारा और इसे सटीक रूप से नष्ट कर दिया। परीक्षण ने न्यूनतम सीमा को सफलतापूर्वक सत्यापित किया है।”

    डीआरडीओ ने कहा, “मिशन के सभी उद्देश्यों को पूरा किया गया। मिसाइल (मैन-पोर्टेबल एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल) का अधिकतम सीमा तक सफलतापूर्वक उड़ान परीक्षण किया जा चुका है। मिसाइल को उन्नत एवियोनिक्स के साथ अत्याधुनिक लघु इन्फ्रारेड इमेजिंग सीकर के साथ शामिल किया गया है।”

    आकाश मिसाइल का भी किया सफल परीक्षण 

    फायर एंड फॉरगेट मैन-पोर्टेबल एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल के साथ-साथ डीआरडीओ ने आकाश मिसाइल की नई पीढ़ी का सफल परीक्षण किया है। सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल, का डीआरडीओ द्वारा आज ओडिशा के तट से एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) से सफलतापूर्वक उड़ान परीक्षण किया।