जम्मू कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाना लोगों का अपमान: गुलाम नब़ी आज़ाद

कश्मीर: नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला से मिलने कांग्रेस नेता गुलाम नब़ी आजाद उनके आवास पहुचे. मिलने के बाद बाहर आए आजाद ने केंद्र की मोदी सरकार और गृहमंत्री अमित शाह

कश्मीर: नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला से मिलने कांग्रेस नेता गुलाम नब़ी आजाद उनके आवास पहुचे. मिलने के बाद बाहर आए आजाद ने केंद्र की मोदी सरकार और गृहमंत्री अमित शाह पर जम के निशाना साधा. इसी के साथ उन्होंने जम्मू कश्मीर को केंद्र शाषित प्रदेश बनाने पर इसे यहाँ के लोगों का अपमान बताया हैं. 

बतादें कि जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद से फारुख अब्दुल्ला को जन सुरक्षा अधिनियम के तहत पिछले सात महीने से नज़र बंद रखा गया था. शुक्रवार को उनपर से इस अधिनियम को हटाकर उन्हें रिहा किया गया हैं. 

संवाददाताओं से बात करते हुए  आजाद ने कहा, " कांग्रेस ‘गुलाम नबी आज़ाद: मेरे लिए बहुत खुशी की बात है। मैं उनसे (नेशनल कॉन्फ्रेंस सांसद फारूक अब्दुल्ला) 7 महीने से अधिक समय बाद मिला। उन्हें इन सभी महीनों के लिए हिरासत में लिया गया था, उनके हिरासत का कारण अभी तक मुझे ज्ञात नहीं है." 

प्रगति के लिए सभी को करे रिहा
कांग्रेस नेता ने कहा, "  अगर जम्मू-कश्मीर को प्रगति करनी है तो श्रीनगर में नजरबंदी के तहत सभी राजनीतिक नेताओं को रिहा करना होगा." उन्होंने कहा, "जम्मू और कश्मीर में राजनीतिक प्रक्रिया शुरू होनी चाहिए। उचित प्रक्रिया का पालन करते हुए चुनाव जम्मू-कश्मीर में होने चाहिए."

केंद्रशाषित प्रदेश बनाना जनता का अपमान 
केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर को केंद्र शाषित प्रदेश बनाने की आलोचना करते हुए गुलाम नब़ी ने कहा, " जम्मू-कश्मीर राज्य को केंद्रशासित प्रदेश घोषित करने का निर्णय जम्मू-कश्मीर के लोगों का अपमान है." उन्होंने कहा, "  जम्मू-कश्मीर को फिर से राज्य घोषित किया जाना चाहिए."