नरसंहार कराने वाला, जवानों की मौत का सौदा भी कर सकता हैं

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद उदित राज ने गुरुवार को प्रधानमंत्री पर विवादित बयान देदिया हैं. पुलवामा हमले की पहली बरसी पर प्रधानमंत्री मोदी को निशाना बनाते हुए कहा कि, "जो लोग सत्ता

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद उदित राज ने गुरुवार को प्रधानमंत्री पर विवादित बयान देदिया हैं. पुलवामा हमले की पहली बरसी पर प्रधानमंत्री मोदी को निशाना बनाते हुए कहा कि, "जो लोग सत्ता पाने के लिये गुजरात में नरसंहार करवा सकते हैं,  वो सत्ता बनाये रखने के लिये 40 जवानों की जान का सौदा भी कर सकते हैं।"

गौरतलब है कि, 14 जनवरी 2019 में पुलवामा में सीआरपीफ के काफ़िले पर हमला हुआ था, जिसमे 40 जवानों कि मौत होगई थी. आतंकियों ने आरडीअक्स से भरी एक गाडी सीआरपीफ के काफ़िले में शामिल बस को ठोक दी थी. 

इसी को मुद्दा बनाते हुए उदित राज ने लगातार कई ट्वीट किए जिसमे उन्होंने हुए कहा, " जो लोग सत्ता पाने के लिये गुजरात में नरसंहार करवा सकते हैं,  वो सत्ता बनाये रखने के लिये 40 जवानों की जान का सौदा भी कर सकते हैं।" उन्होंने आगे कहा, "इनके लिये देशभक्ति और राष्ट्रवाद जनता को भरमाने का एक टूल भर है।"

पूर्व सांसद ने कहा, " देश शहीदों को लेकर संवेदनशील है, इसलिए शहीदों के लिये बने फंड में पुलवामा हमले के बाद 12गुणा बढ़ोत्तरी हुई है." सरकार पर सवाल उठाते हुए उदित राज ने कहा, " सवाल यह है कि शहीदों के परिजन कहीं भीख मांगने तो कहीं सब्जी बेचने का काम क्यों कर रहे हैं. इन्होंने पुलवामा के नाम पर नोट/वोट बनाया, परिजनों को भूल गये ।"

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी के सवालों का समर्थन करते हुए उदित राज ने कहा, " राहुल गांधी जी ने सही सवाल उठाया की पुलवामा हमले के जांच का नतीजा अभी तक नही आया जब गृहमंत्रालय को खबर मिल गयी थी कि CRPF को रोड से नहीं बल्कि एयर से ले जाना चाहिए तो  इजाजत नहीं दिया अर्थात राजनैतिक लाभ के लिए यह घटना होने दिया।"

बतादें कि, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने भी फरवरी को पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजली देते हुए सरकार पर निशाना साधा था." जिसमे उन्होंने सरकार से तिन सवाल पूछा था. हमले से किसको फायदा हुआ?, हमले की जांच में क्या निकला?, सरकार में किसकी जबाबदेही तय हुई?