harvansh

नयी दिल्ली. राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश संसद परिसर में धरने पर बैठे राज्यसभा के आठ निलंबित सदस्यों को मंगलवार सुबह चाय पिलाने पहुंचे। उनके इस व्यवहार की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह उनकी उदारता और महानता को दर्शाता है।

मोदी ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा, ‘‘बिहार की धरती ने सदियों पहले पूरे विश्व को लोकतंत्र की शिक्षा दी थी। आज उसी बिहार की धरती से प्रजातंत्र के प्रतिनिधि बने हरिवंश जी ने जो किया, वह प्रत्येक लोकतंत्र प्रेमी को प्रेरित और आनंदित करने वाला है।” उन्होंने कहा कि हर किसी ने देखा कि दो दिन पहले लोकतंत्र के मंदिर में उपसभापति हरिवंश को किस प्रकार ‘‘अपमानित” किया गया और उन पर ‘‘हमला” किया गया और फिर वही लोग उनके खिलाफ धरने पर भी बैठ गए।

मोदी ने कहा, ‘‘लेकिन आपको आनंद होगा कि आज हरिवंश जी ने उन्हीं लोगों को सवेरे-सवेरे अपने घर से चाय ले जाकर पिलाई। यह हरिवंश जी की उदारता और महानता को दर्शाता है। लोकतंत्र के लिए इससे खूबसूरत संदेश और क्या हो सकता है। मैं उन्हें इसके लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं।”

मालूम हो कि रविवार को उच्च सदन में कृषि संबंधी विधेयकों को पारित किए जाने के दौरान ‘‘अमर्यादित व्यवहार” के कारण इन सदस्यों को सोमवार को शेष सत्र के लिए निलंबित किया गया है। इस कदम के विरोध में आठों निलंबित सदस्य संसद भवन परिसर में ही ‘‘अनिश्चितकालीन” धरने पर बैठ गए। प्रदर्शन पर बैठे निलंबित सदस्यों के लिए उपसभापति हरिवंश अपने घर से चाय लेकर पहुंचे थे। निलंबित किए गए आठ सदस्यों में कांग्रेस, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा), तृणमूल कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) के सदस्य शामिल हैं।