The Bombay High Court said- Maharashtra government should aware of the steps being taken to save children from getting covid infected
File

    मुंबई: देश भर में कोरोना का खतरनाक अटैक जारी है। इस वायरस की चपेट में देश के ज़्यादातर राज्य आ चुके हैं। दूसरे राज्यों के मुकाबले महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना वायरस (Corona Virus) का कहर बढ़ता जा रहा है। महाराष्ट्र के कई इलाकों में कोरोना वायरस लगातार कोहराम मचा रहा है। वहीं मुंबई में रोज़ाना कोरोना के डरा देने वाले आंकड़े सामने आ रहे हैं। बीएमसी (BMC) द्वारा शनिवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, मुंबई में पिछले 24 घंटों में 52 लोगों की कोरोना से मौत हुई है और शहर में पिछले 24 घंटों में  8,834 नए कोरोना मामले सामने आए हैं। हालांकि आंकड़ों के अनुसार, कोरोना की चपेट में 6,617  मरीज़ ठीक भी हुए हैं।

    वैसे मुंबई में सख्त पाबंदियां लगा दी गई हैं। लेकिन इसके बावजूद मुंबई में रोज़ाना कोरोना के हज़ारों मामले सामने आ रहे हैं। शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, शहर में पिछले 24 घंटों में 53 लोगों की मौत हुई थी जबकि 8839 नए केस सामने आए थे। इस बीच मुंबई सहित महाराष्ट्र में और कड़ी पाबंदियां लगाने पर भी विचार किया जा रहा है।

    शनिवार को राज्य के स्वास्थ्य मंत्री (Health Minister) राजेश टोपे (Rajesh Tope) ने कहा कि, राज्य में कोरोना वायरस के मामलों में वृद्धि से निपटने के लिए लागू पाबंदियां स्थिति को देखते हुए एक मई से भी आगे भी बढ़ायी जा सकती हैं। टोपे ने कहा कि लोग पाबंदियों को लेकर सहयोगात्मक रहे हैं। हालांकि, दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक नियमों के कुछ उल्लंघन भी सामने आए हैं।

    मंत्री ने कहा, सरकार और प्रशासन फिलहाल स्थिति का जायजा ले रही है। कोरोना के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए लागू सीआरपीसी की धारा 144 के उल्लंघन के कुछ मामले सामने आये हैं। हम इन पाबंदियों को 1 मई से आगे बढ़ा सकते हैं, यह स्थिति पर निर्भर करेगा। इन 15 दिनों के परिणामों की समीक्षा करने के बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा।