mamata-banerjee

    कोलकाता: मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) के साथ नंदीग्राम (Nandigram) में हुई घटना को लेकर केंद्रीय चुनाव आयोग (Election Commission of India) ने बड़ी कार्रवाई की है। आयोग ने पूर्व मेदिनीपुर (West Medinapur) के एसपी और जिलाधिकारी को उनके पद से सस्पेंड कर दिया है। इसी के साथ ममता के सुरक्षा निदेशक विवेक सहाय (Vivek Sahay) को भी निलंबित कर दिया है। 

    सुरक्षा में चूक को लेकर गिरी गाज 

    आयोग ने मुख्यमंत्री के सुरक्षा निदेशक सहाय को निलंबित करने का कारण बताते हुए कहा, “मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की Z +सुरक्षा की जिम्मेदारी उनके पास थी वह उसे पूरी करने में ना कामयाब रहे हैं।” आयोग ने इसी के उनपर एक हफ्ते के अंदर आरोप तय करने का निर्णय भी दिया है। 

    जिला एसपी और जिलाधिकारी भी सस्पेंड 

    आयोग ने पूर्वी मेदिनीपुर के जिलाधिकारी विभु गोयल को भी पद से हटा दिया है। उनके साथ पर आइएएस स्मिता पांडे  डीएम और डीएफओ नियुक्त किया है। इसी के साथ जिले के एसपी सूर्य प्रकाश को भी निलंबित कर दिया है। बंदोबस्त की बड़ी विफलता के लिए उनके खिलाफ आरोप लगाए गए हैं।

    अनिल कुमार नए पर्यवेक्षक 

    चुनाव आयोग ने पूर्व डीजीपी इंटेलिजेंस पंजाब, अनिल कुमार शर्मा को पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए विशेष पुलिस पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। वहीं विवेक दुबे के अलावा एके शर्मा दूसरे विशेष पुलिस पर्यवेक्षक होंगे। 

    क्या है मामला?

    ज्ञात हो कि, बुधवार को नंदीग्राम में प्रचार के दौरान ममता बनर्जी घायल हो गई थी। उन्होंने पैरों में गहरी चोट आई, जिसके बाद उन्हें आनन फानन में कोलकाता लाया गया और यहां के एसएसकेएम अस्पताल में भर्ती कराया गया। प्रचार के दौरान लगी चोट को मुख्यमंत्री ने खुद पर हमला बताया था। उन्होंने पत्रकारों से कहा, “जब वह अपनी गाड़ी के नजदीक थी तो कुछ लोगों ने उन्हें धक्का दिया, जिसके कारण उनके पैर में चोट लग गई।4-5 लोगों ने गाड़ी एकदम बंद कर दी। बहुत चोट लग गई। वहां लोकल पुलिस से कोई नहीं था। किसी की साजिश जरूर है। यह जानबूझकर किया गया है।