modi-mufti

     श्रीनगर. पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (Mahbooba Mufti) ने शनिवार को कहा कि उनकी पार्टी जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के क्षेत्रीय राजनीतिक दलों को बातचीत के लिए बुलाने के केंद्र के निमंत्रण पर चर्चा करने के लिए रविवार को एक बैठक करेगी। अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव कराने सहित राजनीतिक प्रक्रियाओं को मजबूत करने की केंद्र की पहल के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 24 जून को वहां के सभी राजनीतिक दलों के साथ बैठक की अध्यक्षता कर सकते हैं।

    यह बैठक केंद्र द्वारा अगस्त 2019 में जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे को निरस्त करने और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजन करने की घोषणा के बाद से इस तरह की पहली कवायद होगी। इस बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और अन्य केंद्रीय नेताओं के भाग लेने की संभावना है।

    महबूबा ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘नयी दिल्ली के साथ बात करने का कोई स्पष्ट एजेंडा नहीं है। मैंने अपनी पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) से इस पर चर्चा करने के लिए एक बैठक बुलाने को कहा है।” पूर्व में राज्य रहे जम्मू कश्मीर की आखिरी मुख्यमंत्री महबूबा को केंद्र शासित प्रदेश पर 24 जून को होने वाली बैठक के लिए केंद्र से फोन आया। महबूबा ने कहा कि बातचीत में शामिल होने या न होने का फैसला पार्टी लेगी जिसके लिए रविवार को पीएसी की बैठक बुलायी गयी है।

    उन्होंने कहा, ‘‘बैठक के लिए कोई एजेंडा नहीं है लेकिन मुझे बताया गया कि आम स्थिति की समीक्षा करने और राजनीतिक प्रक्रिया को आगे कैसे ले जाया जाए, इसके लिए बैठक बुलायी गयी है। कोई स्पष्ट एजेंडा नहीं है।” महबूबा के नेतृत्व वाली पीएसी में आर वीरी, मुहम्मद सरताज मदनी, जी एन लोन हंजुरा, डॉ. महबूब बेग, नईम अख्तर, सुरिंदर चौधरी, यशपाल शर्मा, मास्टर तस्सदुक हुसैन, सोफी अब्दुल गफ्फार, निजाम उद्दीन भट, आसिया नकाश, फिरदौस अहमद टाक, मुहम्मद खुर्शीद आलम और एडवोकेट मुहम्मद युसूफ भट जैसे नेता सदस्य हैं। बहरहाल, मदनी अभी एहतियातन हिरासत में हैं।