shivraj-sajjan

भोपाल. हमेशा अपने विवादित बयान देकर सुर्ख़ियों में रहने वाले मध्य प्रदेश कांग्रेस (Madhya Pradesh) के नेता एवं प्रदेश के पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा (Sajjan Singh Verma) अब एक बार फिर  बेटियों (Girls) के बारे में दिए विवादित बयान के कारण फँसते हुए दिखाई दे रहे हैं। दरअसल राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (National Commission for Protection of Child Right) ने मध्यप्रदेश DGP को कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा के ऊपर जरुरी कारवाई करने को कहा है, क्योंकी उन्होंने बेटियों पर अपने दिए गए ब्यान पर अब तक राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग को अपना जवाब नहीं भेजा है।

दरअसल हमेशा अपने विवादित बयान देकर सुर्ख़ियों में रहने वाले मध्य प्रदेश कांग्रेस (Madhya Pradesh) के नेता एवं प्रदेश के पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा (Sajjan Singh Verma) ने बीते बुधवार 13 जनवरी को  बेटियों (Girls) के बारे में विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि, “13 साल में बच्चियां प्रजनन के लायक हो जाती हैं, तो उनकी शादी की उम्र 21 साल करने की क्या जरूरत है।” 

 गौरतलब है कि इस घटना के दो दिन पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने एक कार्यक्रम में कहा था, ‘‘कई बार मुझे लगता है कि समाज में बहस होनी चाहिए कि बेटियों की शादी की उम्र 18 रहनी चाहिए या इसे बढ़ाकर 21 साल कर देना चाहिये। मैं इसे बहस का विषय बनाना चाहता हूं। प्रदेश सोचे, देश सोचे ताकि इस पर कोई फैसला किया जा सके।”

इधर वर्मा के इस बयान पर मध्यप्रदेश भाजपा ने कड़ी आपत्ति जताई थी। मध्य प्रदेश भाजपा की मीडिया प्रवक्ता नेहा बग्गा ने कहा था कि, ‘‘वर्मा ने देश की बेटियों का अपमान किया है। क्या वह भूल गये कि उनकी (कांग्रेस) अध्यक्ष (सोनिया गांधी) महिला हैं? क्या वह भूल गये कि उनकी नेता प्रियंका गांधी भी महिला हैं? मैं सोनिया गांधी से आग्रह करती हूं कि वह वर्मा के इस बयान के लिए उनसे सार्वजनिक तौर पर माफी मंगवाएं और यदि वह ऐसा नहीं करते हैं तो उन्हें पार्टी से बर्खास्त करें।”

अब इसी मामले पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने भी सज्जन सिंह वर्मा से सफाई मांगी थी, जिसे वे लिखित रूप से देने में असमर्थ रहे। जिसके चलते अब आयोग ने मध्यप्रदेश DGP को कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा के ऊपर जरुरी कारवाई करने की तस्दीक दी है।