NIA interrogated encounter specialist turned politician Pradeep Sharma, summoned after Sachin Waze's custody

    मुंबई: उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर के बाहर एक वाहन में विस्फोटक (Explosives) सामग्री मिलने और कारोबारी मनसुख हिरन (Mansukh Hiren) की हत्या (Murder) के मामले में पूर्व पुलिस अधिकारी प्रदीप शर्मा (Pradeep Sharma) गुरुवार को दूसरे दिन राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) (NIA) के समक्ष पेश हुए। ‘मुठभेड़ विशेषज्ञ’ (Encounter Specialist) कहे जाने वाले शर्मा को एनआईए ने बयान दर्ज कराने के लिए तलब किया था।

    इस संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि शर्मा आज अपराह्न लगभग एक बजे दक्षिण मुंबई स्थित एनआईए कार्यालय पहुंचे। सूत्रों ने बताया कि शर्मा का निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वाजे और दो अन्य लोगों से आमना-सामना कराए जाने की संभावना है जिन्हें मामले की जांच के सिलसिले में एनआईए ने पूर्व में गिरफ्तार किया था।

    एनआईए ने बुधवार को शर्मा से सात घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की थी। शर्मा को मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह का उस समय विश्वस्त अधिकारी माना जाता था जब वह ठाणे पुलिस के प्रमुख थे। स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने से पहले शर्मा ने ठाणे अपराध शाखा के वसूली रोधी प्रकोष्ठ में काम किया था। शर्मा ने 2019 में पालघर जिले की नाला सोपारा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गए थे।