Nirbhaya case: sent to the border better than hanging

नई दिल्ली: पटियाला हाउस कोर्ट ने गुरुवार को निर्भया के दोषियों में से एक मुकेश की याचिका ख़ारिज कर दी. जिसके बाद इन्सभी को फांसी दिए जाने को लेकर रास्ता साफ़ होगया हैं. एक ओर जहां पूरा देश इस निर्णय से खुश हैं. वही दूसरी ओर आरोपियों के वकील ए पी सिंह ने आरोपियों को शरहद पर भेजने की मांग की है. 

कोर्ट के निर्णय के बाद पत्रकारों से बात करते हुए सिंह ने कहा, ” सरकार को निर्भया के दोषियों को भारत-पाकिस्तान सीमा पर या डोकलाम में भेजना चाहिए.उन्हें फांसी नहीं देने चाहिए क्योंकि सभी देश सेवा के लिए तैयार हैं.” 

दोषियों के सभी विकल्प खत्म 
निर्भया के दोषियों ने फांसी  बचने के लिए हर तरह के प्रयास किया. दोषी पवन और अक्षय ने दो बार राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगाकर फांसी रोकने की कोशिश की लेकिन वह दोनों बार कामयाब नहीं हो सके. राष्ट्रपति ने दोनों की दया याचिका ख़ारिज कर दी थी.  

कल फांसी तय 
कोर्ट द्वारा याचिका ख़ारिज होने के बाद दोषियों की फांसी तय होचुकी हैं. जिसके तहत चारो को कल सुबह 5.30 बजे फांसी दे दी जाएगी. इसके दोषियों की फांसी  दो बार फांसी टल चुकी हैं.