Sachin Pilot, Ashok Gehlot
File Pic

    नयी दिल्ली. भाजपा (BJP) के महासचिव तथा राज्य सभा सदस्य भूपेन्द्र यादव (Bhupendra Yadav) ने फोन टैपिंग मामले (Phone-tapping case) को लेकर शुक्रवार को राजस्थान (Rajasthan) की कांग्रेस सरकार (Congress Government) पर निशाना साधते हुए उसपर लोगों के निजता के संवैधानिक अधिकार का उल्लंघन करने का आरोप लगाया। यादव ने राज्यसभा में यह मुद्दा उठाने के बाद पत्रकारों से कहा कि राज्य सरकार ने खुद स्वीकार कर लिया है कि फोन टैप किये गए थे। उन्होंने दावा किया कि न केवल आम लोगों बल्कि कांग्रेस सदस्यों के भी फोन टैप किये गए।

    गौरतलब है कि पिछले साल जुलाई में राज्य के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट तथा कांग्रेस के 18 अन्य विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ बागी तेवर अपना लिये थे, जिसके बाद राजनीतिक संकट खड़ा हो गया था। इसी दरम्यान फोन टैपिंग विवाद सामने आया था। हालांकि राजस्थान सरकार कहती रही है कि उसने पिछले साल राजनीतिक संकट के दौरान किसी विधायक का फोन टैप नहीं किया था। वहीं दूसरी ओर उसने स्वीकार किया है कि तय नियमों का पालन करते हुए कुछ आम लोगों के फोन टैप किये गए थे।

    यादव ने कहा कि संविधान प्रत्येक नागरिक को निजता का अधिकार प्रदान करता है और सरकार का काम उस अधिकार की रक्षा करना है। यादव ने मुख्यमंत्री के विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी) द्वारा कुछ नेताओं के मोबाइल ऑडियो क्लिप प्रसारित किये जाने की खबरों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि राजस्थान सरकार को यह बताना चाहिये कि उन्हें यह अधिकार किसने दिया क्योंकि टेलीग्राफ अधिनियम के तहत इस प्रकार की शक्तियां सरकार के पास होती हैं। भाजपा ने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग करते हुए राज्य की विधानसभा में हंगामा किया। (एजेंसी)