MODI-MEETING

    नयी दिल्ली. आज यानी बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi Cabinet meeting) ने अपने आवास पर अपनी नई कैबिनेट के साथ मीटिंग की। बता दें कि कैबिनेट में नए मंत्रियों के शामिल होने के बाद पहली विस्तृत कैबिनेट बैठक थी। हालाँकि इससे पहले भी शपथ ग्रहण के बाद PM मोदी ने मंत्रियों के साथ कैबिनेट बैठक की थी। आज की इस बैठक में सभी मंत्री मौजूद रहे। बता दें कि आज यानी बुधवार को शाम 4 बजे मंत्रिपरिषद की बैठक भी होनी है। 

     कई मुद्दों पर चर्चाएं:

    वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हो रही इस बैठक में कई मुद्दों पर चर्चाएं की जाएंगी। विदित हो कि प्रधानमंत्री मोदी (Narendra Modi) के नए मंत्रिमंडल विस्तार में कुल 43 मंत्री शामिल हुए हैं। जिनमें से 36 नए लोग हैं। इनमें 7 महिलाएं भी शामिल हैं।

    लॉकडाउन में होती थी वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से नियमित बैठक :

    यह भी बता दें कि लॉकडाउन के दौरान भी केंद्रीय मंत्रिमंडल ( Narendra Modi Cabinet meeting ) की लगभग हर हफ्ते वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से नियमित रूप से जरुरी बैठक होती थी। इसी क्रम में आज प्रधानमंत्री शाम 4 बजे भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये भी मंत्रिपरिषद की बैठक की अध्यक्षता करेंगे। वहीं 7 जुलाई को मंत्रिपरिषद के विस्तार के बाद एक सप्ताह में यह इसकी दूसरी बैठक होगी। नई मंत्रिपरिषद की बैठक बीते 8 जुलाई को हुई थी। 

    क्या हो सकता है बैठक का कारण:

    • सूत्रों के मुताबिक संसद का आगामी मानसून सत्र मंत्रिपरिषद की बार-बार बैठक बुलाने का भी एक कारण हो सकता है।
    • यह भी पता हो किसदन की कार्यवाही सुचारू रूप से चलना सुनिश्चित करने के लिए इस तरह की सर्वदलीय बैठकें सत्र आरंभ होने से पहले बुलाई जाती हैं। 
    • इस बार मानसून सत्र 19 जुलाई को आरंभ होगा और 13 अगस्त को उसका समापन होगा।

    13 दिन चलेगा इस बार मानसून सत्र : 

    गौरतलब है कि संसद का मानसून सत्र इस बार 13 दिन चलेगा। कई अहम् मंत्रालयों में फेरबदल के बाद, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, भूपेंद्र यादव और सर्बानंद सोनोवाल को भी प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली राजनीतिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति में शामिल किया गया है। लेकिन अब पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और हर्षवर्धन इसका हिस्सा नहीं रहे। इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री वीरेंद्र कुमार, किरण रिजिजू और अनुराग ठाकुर को भी अब संसदीय मामलों की मंत्रिमंडल समिति के सदस्य बनाया गया है। वहीं मंत्रिमंडल की निवेश और विकास पर गठित कैबिनेट समिति में भी व्यापक फेरबदल किया गया है और अब इसमें PM नरेन्द्र मोदी, राजनाथ सिंह, अमित शाह, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, नारायण राणे, ज्योतिरादित्य सिंधिया और अश्विनी वैष्णव जैसे दिग्गज भी शामिल हैं।