modi

नयी दिल्ली. आज अपने गुजरात दौरे (Gujarat Tour) पर PM नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने एक बार फिर कृषि कानूनों (Farm Laws) के मसले पर बात की है। कच्छ (Rann of Kutch) के रण में उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि विपक्षी पार्टियां मिलकर किसानों को गुमराह करने की कोशिश कर रही हैं। उन्होंने आज यह भरोसा दिलाया कि कृषि कानूनों को लेकर सरकार हर प्रकार की शंका का समाधान करने को तैयार है। 

आज देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने गुजरात (Gujrat) के कच्छ (Kutch) के दौरे पर हैं । यहाँ उन्होंने अलग-अलग तीन परियोजनाओं का भूमि पूजन भी ककिया । उन्होंने  विश्व के सबसे बड़े रिन्यूएबल सोलर प्रोजेक्ट और कच्छ के मांडवी में लगने वाले डिसेलिनेशन प्लांट का भी भूमि पूजन आज किया। आइये देखते हैं PM मोदी ने क्या कहा…

PM मोदी ने आज कहा कि:

  • दिल्ली के आसपास आजकल हमारे किसानों को डराने की साजिश चल रही है। 
  • आज हम अपने देश के किसानों को आजादी दे रहे हैं। कई वर्ष से जिसकी किसान संगठन मांग करते थे, विपक्ष आज किसानों को गुमराह कर रहा है लेकिन वह अपनी सरकार के वक्त ऐसी ही बातें करता था। 
  • मैं किसानों से कह रहा हूं कि हमारी सरकार उनकी हर शंका के समाधान के लिए तैयार है, किसानों का हित ही इस सरकार की प्राथमिकता है। 
  • हम किसानों की आय बढ़ाने के लिए फैसले ले रहे हैं। देश के हर कोने के किसान नए कानूनों के साथ हैं। 
  • कुछ लोग भ्रम फैला रहे हैं और राजनीति कर रहे हैं, अब किसानों के कंधों पर रखकर बंदूकें चलाई जा रही हैं। 
  • आज कच्छ  देश के सबसे विकसित जिलों में से एक गिना जाता है, यहां से अब पलायन भी कम होने लगा है। 
  • कच्छ कभी वीरान रहता था, लेकिन अब कच्छ दुनिया के पर्यटकों के लिए पसंदीदा स्थल में से एक है। 
  • अब इस एनर्जी पार्क के बन्ने से प्रदूषण से लड़ने में मदद मिलेगी, यहाँ करीब नौ करोड़ पेड़ लगायें जायेंगे। 
  • अब इस पार्क के चलते इससे एक लाख युवाओं को नौकरी भी मिलेगी, वहीं किसानों के लिए विशेष सुविधाएं भी होंगी। 
  • अब हमने नहरों पर भी सोलर पैनल लगा दिए हैं । हमें यह समझना होगा कि देश के लिए एनर्जी के साथ जल संरक्षण भी जरूरी है और इस पर अब और तेजी से काम हो रहा है। 

इसके पहले आज अपने दौरे के वक़्त PM नरेंद्र मोदी ने कच्छ में सिख किसानों के एक समूह से मुलाकात भी की थी। गौरतलब है कि, इस मुलाकात में किसानों ने PM मोदी के सामने अपने स्थानीय मुद्दों को लेकर ही बात की।