modi

नयी दिल्ली.  मोदी सरकार (Narendra Modi) द्वारा लाये गए नए विवादस्पद ‘कृषि कानूनों’ (Farm Laws) के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन आज लगातार 20वें दिन में प्रवेश कर गया है। मोदी सरकार जहाँ किसानों के साथ आमने-सामने से बात तो कर ही रही है, प्रदर्शनकारी किसानों को मनाने के लिए पीछे के दरवाजे से से भी बात कर रही है। वहीं आन्दोलनरत किसान जो कि अभी सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर डटे हुए हैं, वे नए कानूनों को रद्द करने से कम पर बिलकुल भी राजी नहीं है। अपनी मांगों के समर्थन में किसानों ने बीते सोमवार को भूख हड़ताल भी की थी।   

जरुरत पड़ी तो कर सकता हूँ किसानों से बात: गडकरी

वहीं इस मुद्दे पर आज केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने किसानों का आह्वान करते हुए कहा कि देश के किसान इस बात को समझे कि केंद्र सरकार उनके साथ कभी किसी भी प्रकार कि नाइंसाफी नहीं होने देगी। इसके साथ ही उनका कहना था कि उनकी सरकार किसानों को बात और चर्चा के जरिए समझाएगी और बातचीत के जरिए ही इस गतिरोध का हल निकलेगा। गडकरी  ने यह भी कहा कि अभी कृषि मंत्री तोमर  और वाणिज्य मंत्री किसानों के साथ बातचीत कर रहे हैं। अगर उन्हें किसानों से बात करने के लिए कहा जाएगा तो वे भी निश्चित रूप से वह किसानों से बातचीत जरुर करेंगे।  

आज करेंगे PM मोदी कच्छ के किसानों से:

गौरतलब है कि ‘कृषि कानूनों’ के विरोध के मध्य आज PM नरेंद्र मोदी आज कच्छ में बसे सिख किसानों से मुलाकात करने वाले हैं। PM मोदी  आज कच्छ के दौरे पर हैं। विदित हो कि कच्छ जिले की ‘लखपत तालुका’ में और इसके समीप कुल मिलाकर करीब 5,000 सिख परिवार निवास करते हैं। जहाँ नए कृषि कानूनों के विरोध में हजारों किसान पिछले 3 सप्ताह से भी अधिक समय से दिल्ली की सीमाओं पर विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि प्रधानमत्री मोदी की आज होने वाली किसानों से इस मुलाकात से सिख समुदाय और किसानों को एक सकरात्मक संदेश देने की पुरजोर कोशिश होगी। 

कल होगी केंद्रीय कैबिनेट की मीटिंग:

वहीं खबरों के अनुसार कल यानी आगामी बुधवार,16 दिसम्बर बुधवार को दिन के 11।30 बजे केंद्रीय कैबिनेट की एक मीटिंग भी है। ये मीटिंग वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होनी है। वहीं चर्चा है कि इस मीटिंग में किसान-आंदोलन पर भी चर्चा हो सकती है।