MODI-PARLIAMENT

नयी दिल्ली.  हमारे देश के इतिहास में आज यानी गुरुवार का दिन काफी ख़ास माना जायेगा। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने नए संसद भवन (Parliament Building) की नींव रखी, जिसमें आधुनिक सारी सुख-सुविधाएं होंगी। आज भूमि पूजन और सर्वधर्म प्रार्थना के बाद यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज का दिन बहुत ही ऐतिहासिक है और यह मील का पत्थर साबित होने वाला है ।

आज PM मोदी ने बहुत ही ओजस्वी भाषण दिया तो आइये देखते हैं क्या कुछ कहा उन्होंने ।

प्रधानमंत्री मोदी ने आज कहा कि:

  • देश में अब भारतीयता के विचारों के साथ नई संसद बनने वाली है, जिसे हम देशवासी मिलकर बनाएंगे।
  • जब भारत अपनी आजादी के 75वें साल का जश्न मनाएगा, तब यही संसद की इमारत उसके लिए एक प्रेरणा होगी।
  • अगर हम अपने लोकतंत्र का उच्चस्वर में गुणगान करेंगे तो वो दिन दूर नहीं जब दुनिया कहेगी ‘इंडिया इज़ मदर ऑफ डेमोक्रेसी’।
  • हमे यह प्रण करना होगा कि हमारे लिए देश की चिंता अपनी चिंता होगी, देश का संविधान हमारे लिए सर्वश्रेष्ठ होगा, देश की अखंडता ही हमारे लिए सबसे पहले होगी। 
  • उनका कहना था कि, इस संसद भवन में बना हर कानून, कही गई हर एक बात हमारे लोकतंत्र की धरोहर है। 
  • लेकिन अब हमें यथार्थ को स्वीकारना जरूरी, पुरानी इमारत सौ साल की हो चुकी है। समयानुसार इसमें कई बदलाव किये गए। 
  • इसमें बदलाव के तहत लोकसभा में बैठने की जगह बढ़ाने के लिए दीवारों को भी हटाया गया, अब संसद का भवन विश्राम मांग रहा है। 
  • 21वें सदी के भारत को एक नए वृहद संसद भवन मिलना जरूरी है। अब इस नए संसद भवन में काफी सुविधाएं होंगी, सांसदों को आसानी होगी।
  • पुराने संसद भवन ने आजादी के बाद हमारे देश को एक नयी दिशा दी, नया भवन आत्मनिर्भर भारत का गवाह और सूचक बनेगा।
  • दुनिया में चुनाव और चुनाव की प्रक्रिया को ही लोकतंत्र समझा जाता है। लेकिन हमारे देश में लोकतंत्र अपने आप में एक संस्कार है और हर किसी के जीवन का अभिन्न हिस्सा है। 
  • जब संसद के नए भवन का आज शिलान्यास हो रहा है, तो देश को एक नया संकल्प लेना होगा की हामरे लिए हमारा देश ही सर्वोपरि होगा।