jammu-congress

    जम्मू. अगर मीडिया ख़बरों के मानें तो लगता है कि कांग्रेस (Congress) के G-23 गुट (G-23) के नेताओं ने अब गांधी परिवार (Sonia Gandhi) के खिलाफ खुली मोर्चाबंदी कर ली है। इसी क्रम में आज जम्मू में G-23 के शीर्ष नेता एक मंच पर वह भी भगवा पगड़ी पहनकर आ जुटे। यही नहीं इस मंच से इस मंच से कांग्रेस के दिग्गजों ने पार्टी नेतृत्व पर सवाल उठाया है। वहीं इन का यह भी कहना था कि पार्टी को मजबूत करने को लिए अब जो भी बलिदान करना होगा हम करेंगे। 

    गौरतलब है कि जम्मू के इस कार्यक्रम में आज गुलाम नबी आजाद के साथ राज बब्बर। मनीष तिवारी, और आनंद शर्मा भी शामिल हुए हैं। वहीं इस मीटिंग में कपिल सिब्बल ने गुलाम नबी आजाद की राज्यसभा से विदाई पर भी सवाल उठाया और कहा कि, “हम आजाद से कभी आजाद नहीं होना चाहते थे। लेकिन पार्टी ने उनके अनुभव का इस्तेमाल क्यों नहीं किया? यह समझ से परे है। अब तो सच्चाई ये है कि कांग्रेस पार्टी हमें कमजोर होती सी लग रही है और इसे हमें इकट्ठा होकर मजबूत करना होगा।”

    इधर शीर्ष नेता आनंद शर्मा ने कहा कि, “हम में से कोई भी खिड़की से नहीं आया। सब दरवाजे से ही आए हैं। हमारी पहचान कांग्रेस की रही है और कांग्रेस भी हमारी पहचान है। और ये अधिकार किसी की नहीं कि हमें कोई बताए कि कांग्रेस क्या है।” उन्होंने कहा कि, “जब पार्लियामेंट में आजाद को आजाद किया जा रहा था तो हमें दुख हो रहा था। लेकिन इस अनुभव को कांग्रेस पार्टी इस्तेमाल क्यों नहीं कर रही है, पता नहीं। लेकिन हम बताएंगे कि कांग्रेस क्या है?”

    वहीं मनीष तिवारी ने कहा कि वक़्त आ गया है कि तमाम राष्ट्रवादी सोच के लोगों को अब एक मंच पर आना ही होगा और उसमें आजाद साहब की भी एक बड़ी अहम् भूमिका होगी। ख़ास बात यह भी थी कि  G-23 की नेताओं ने इस मीटिंग में भगवा पगड़ी धारण कर रखी थी जो शायद किसी नए तूफ़ान को इंगित कर रहा है।