Trump mourns Pranab Mukherjee's death

नयी दिल्ली. पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत में शुक्रवार को भी कोई सुधार नहीं आया और वह अब भी जीवनरक्षक प्रणाली पर हैं। मुखर्जी (84) को 10 अगस्त को सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उनकी मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी। इससे पहले कोविड-19 जांच में उनके संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। अस्पताल ने एक बयान में कहा, ‘‘ माननीय श्री प्रणब मुखर्जी की हालत में आज सुबह (14 अगस्त 2020) भी कोई सुधार नहीं आया। वह अब भी जीवनरक्षक प्रणाली पर हैं। उनकी हालत अभी स्थिर है।” प्रणब मुखर्जी 2012 से 2017 तक भारत के राष्ट्रपति थे। 

 बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी(PranabMukherjee) की हालत में अब भी कोई सुधार नहीं है और वह अब भी गहरी बेहोशी में हैं। सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल ने बृहस्पतिवार को एक बयान में यह जानकारी दी थी । डॉक्टरों ने कहा कि उनकी हालत स्थिर था  और वह अब भी जीवनरक्षक प्रणाली पर हैं। इधर सोशल मीडिया पर यह झूटी खबर फ़ैल गयी थी की प्रणब मुख़र्जी(PranabMukherjee)  नहीं रहे और जब इस फेक खबर को लेकर लोग अपनी प्रतिक्रिया देने लगे थे  तब  वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई(RajdeepSardesai) ने अपने एक ट्वीट के जरिए प्रणब मुखर्जी(PranabMukherjee) के निधन झूठी खबर ट्वीट करने को लेकर माफी मांगी थी । उन्होंने कहा कि, मुझे माफ़ कीजिये इस खबर को मुझे एक बार कन्फर्म करना चाहिए था।