अमित शाह नहीं इन्होने की महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन पर सदन में रिपोर्ट पेश

नई दिल्ली. महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस में बैठकों का दौर शुरू है और इस पर अभी भी सस्पेंस बना हुआ है। इस बीच बुधवार को राज्यसभा में केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र में

नई दिल्ली. महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस में बैठकों का दौर शुरू है और इस पर अभी भी सस्पेंस बना हुआ है। इस बीच बुधवार को राज्यसभा में केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन पर रिपोर्ट पेश कर दी है। यह रिपोर्ट सरकार की तरफ से गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने पेश की है। इससे पहले माना जा रहा था कि राज्य सभा में यह रिपोर्ट अमित शाह पेश करेंगे। 

गौरतलब हो कि महाराष्ट्र में किसी की सरकार नहीं बनने से राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने राष्ट्रपति शासन की सिफारिश की थी। जिसके बाद 12 नवंबर 2019 को महाराष्ट्र में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंजूरी से राष्ट्रपति शासन लागू कर लिया गया।

आपको बतादें कि राज्य विधानसभा के लिए 21 अक्टूबर 2019 को वोट डाले गए थे और 24 अक्टूबर 2019 को नतीजे घोषित किए गए थे। इसमें भाजपा 105 सीटों के साथ अकेली सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी, उसके बाद शिवसेना को 56, एनसीपी को 54 और कांग्रेस को 44 सीटें मिलीं। चुनाव पूर्व सहयोगी भाजपा और शिवसेना ने मिलकर 288 सदस्यीय सदन में 161 सीटें जीती थीं। उन्हें स्पष्ट बहुमत गया था लेकिन मुख्यमंत्री पद को लेकर खींचतान से भाजपा और शिवसेना में दरार पैदा हो गई और सरकार गठन को लेकर गतिरोध बना रहा। जिसके चलते राज्यपाल कोश्यारी शासन की सिफारिश की।