प्रधानमंत्री मोदी ने कहा – बेटी और बहने हैं भाजपा की साइलेंट वोटर, जाने भाषण की प्रमुख बातें

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) को बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) सहित 11 राज्यों के उपचुनावों (By-poll Election) में जबरदस्त जीत मिली है. इसी को लेकर बुधवार को भाजपा मुख्यालय में जश्न कार्यक्रम का आयोजन किया. इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi), जगत प्रकाश नड्डा (J P Nadda), रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह(Rajnath Singh), गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) और नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) सहित बड़े भाजपा नेता शामिल हुआ. इस दौरान प्रधानमंत्री ने वह मौजूद कार्यकर्ताओं को संबोधित किया और समर्थन देने के लिए जनता को धन्यवाद कहा.

आइए जानते है प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में क्या कहा: 

  • मैं देश के लोगों को धन्यवाद देना चाहता हूं, इसलिए नहीं कि उन्होंने भाजपा को राज्यों में चुनावों में जीत दिलाई, बल्कि इसलिए भी कि हम सभी ने उत्साह से लोकतंत्र के त्योहार में भाग लिया.
  • लोकतंत्र के प्रति हम भारतीयों की जो आस्था है उसकी मिशाल पूरी दुनिया में कहीं नहीं मिलती. धन्यवाद इसलिए नहीं कि उन्होंने चुनावों में भाजपा को इतनी बड़ी सफलता दी है, इसके तो वो हकदार हैं ही. धन्यवाद इसलिए क्योंकि लोकतंत्र के इस महान पर्व को हम सभी ने मिलकर बहुत उत्साह से मनाया है.
  • लेकिन हमारी लोकतांत्रिक व्यवस्थाएं इतनी सशक्त हैं, पारदर्शी हैं, कि इस संकट के बीच भी उन्होंने इतना बड़ा चुनाव कराकर दुनिया को भी भारत के ताकत की पहचान करा दी है. चुनाव भले ही कुछ सीटों और कुछ क्षेत्रों पर हुआ हो लेकिन कल सुबह से लेकर देर रात तक पूरे देश की नजरें टीवी, सोशल मीडिया और चुनाव आयोग की वेबसाइट पर थीं.
  • मैं एनडीए के प्रत्येक कार्यकर्ता के साथ-साथ उनके परिवारों को उनके समर्पित कार्य और चुनावों में योगदान की सफलता के लिए बधाई देता हूं. मैं भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा जी को चुनाव में जीत के लिए बधाई देना चाहता हूं.
  • कोरोना के इस संकट काल में ये चुनाव कराना आसान नहीं था. लेकिन हमारी लोकतांत्रिक व्यवस्थाएं इतनी सशक्त हैं, पारदर्शी हैं कि इस संकट के बीच भी उन्होंने इतना बड़ा चुनाव कराकर दुनिया को भी भारत के ताकत की पहचान करा दी है.
  • भाजपा पूर्व में जीती, मणिपुर में कमल का झंडा फहरा दिया. भारतीय जनता पार्टी पश्चिम में जीती, गुजरात में जीती. भाजपा को उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में विजय प्राप्त हुई. और भाजपा को दक्षिण में कर्नाटका-तेलंगाना में सफलता मिली.
  • दुबारा मतदान नहीं और शांतिपूर्ण  मतदान बिहार चुनाव की विशिष्ट विशेषताएं नहीं थीं. पहले बूथ कैप्चरिंग आदि की खबरें हुआ करती थीं.
  • हर कोई पूछ रहा है कि यह कैसे हुआ? हम कल के परिणामों में एक उत्तर पा सकते हैं. भारत के लोग बार-बार यह स्पष्ट कर रहे हैं कि देश की सेवा करने का मौका उन लोगों को दिया जाएगा जो देश के विकास के लिए ईमानदारी से काम करते हैं.
  • 21वीं सदी के भारत के नागरिक, बार-बार अपना संदेश स्पष्ट कर रहे हैं. अब सेवा का मौका उसी को मिलेगा, जो देश के विकास के लक्ष्य के साथ ईमानदारी से काम करेगा. हर राजनीतिक दल से देश के लोगों की यही अपेक्षा है कि देश के लिए काम करो, देश के काम से मतलब रखो.
  • देश का विकास, राज्य का विकास, आज सबसे बड़ी कसौटी है और आने वाले समय में भी यही चुनाव का आधार रहने वाला है. जो लोग ये नहीं समझ रहे, इस बार भी उनकी जगह-जगह जमानत जब्त हो गयी है.
  • इन दिनों, हम सुर्खियों में आते हैं जैसे ‘महिलाओं की संख्या में वृद्धि’ और ‘वोटों की संख्या में वृद्धि’ हमारे अतीत से एक बड़ा बदलाव है.
  • आर्थिक सुधार हो, कृषि सुधार हों या फिर देश की सुरक्षा, शिक्षा की बात हो, नई व्यवस्थाओं की बात हो या फिर किसानों-श्रमिकों का हित, ये भाजपा ही है जिस पर देश आज सबसे ज्यादा भरोसा कर रहा है. ये भरोसा भाजपा के लिए, मेरे लिए, आपके प्रधान सेवक के लिए बहुत बड़ी पूंजी है.

  • ये भाजपा ही है जिसके लिए जनता जनार्दन का स्नेह बढ़ता ही जा रहा है. लोकसभा चुनाव में पार्टी ने पहले से ज्यादा सीटें जीतकर सरकार में अपनी वापसी की. बिहार में 3 बार सरकार में रहने के बाद भाजपा ही एकमात्र पार्टी है, जिसकी सीटों में बढ़ोतरी हुई.

  • भाजपा की सफलता के पीछे उसका गवर्नेंस मॉडल है. जब लोग गवर्नेंस के बारे में सोचते हैं, तो भाजपा के बारे में सोचते हैं. भाजपा सरकारों की पहचान ही है – गुड गवर्नेंस.

  • जिस तरह से हमने आज तक जनता कर्फ्यू से इस महामारी का मुकाबला किया है वह इन चुनाव परिणामों में परिलक्षित हुआ है. COVID से बचाया गया हर जीवन भारत के लिए एक सफलता की कहानी है.

  • बिहार चुनाव जीतने का रहस्य ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका साथ’ है. यह बिहार में विकास कार्यों की जीत है.
  • भारत के लोगों ने स्पष्ट रूप से कहा है कि चुनाव के दौरान बहस का एकमात्र बिंदु 21 वीं सदी के भारत में विकास होगा. भारत के लोग हर दूसरे दल को इस तख्ती पर आने के लिए कह रहे हैं, और उन्हें दिखा रहे हैं कि ये असली मुद्दे हैं.
  • मैं बिहार के अपने भाइयों और बहनों से कहूंगा, आपने एक बार फिर सिद्ध किया है कि बिहार क्यों लोकतंत्र की ज़मीन कहा जाता है. आपने फिर सिद्ध किया है कि वाकई, बिहारवासी पारखी भी हैं और जागरूक भी.
  • देश का युवा आज यह अच्छी तरह से जानता है कि वंशवाद की राजनीति लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा खतरा है. दुर्भाग्य से, एक राष्ट्रीय स्तर की राजनीतिक पार्टी पारिवारिक राजनीति के जाल में फंस जाती है. ऐसे में बीजेपी की भूमिका और भी बढ़ जाती है.
  • हमारी पार्टी में, हमें लोकतंत्र के सिद्धांतों को और मजबूत करना है, यही हमारी पार्टी को शक्तिशाली बनाता है.
  • प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भाजपा की विचारधारा है कि ‘जीत का उन्माद नहीं, हार का अवसाद नहीं’. इसी मंत्र के साथ हम आगे बढ़ रहे हैं. राष्ट्र निर्माण का, आत्मनिर्भर भारत के विकास का काम अनवरत जारी है. हमारे लिए अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति का विकास ही लक्ष्य और जिम्मेदारी है.
  • बंगाल और केरल में भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले की घटनाओं को लेकर पीएम ने कहा कि जो लोग हमें सीधे चुनौती नहीं दे पा रहे हैं वो हमारे कार्यकर्ताओं के साथ हिंसा रहे हैं, उनकी हत्या कर रहे हैं. लेकिन लोकतंत्र में हिंसा का स्थान नहीं है, कार्यकर्ताओं को मारना ठीक नहीं है, मौत का खेल खेलकर कोई मत नहीं पा सकता है.
  •  हमारे इरादों, प्रयासों पर कोई सवाल नहीं उठा सकता है. मैं जनता के सपनों को पूरा करने में कोई कमी नहीं रहने दूंगा. मैं देश के सभी मतदाताओं को और भाजपा को धन्यवाद देता हूं.
  • दिवाली की बधाई देते हुए प्रधानमंत्री ने कोरोना से सतर्क रहने की सलाह दी और कहा कि अपना ध्यान रखिए, अपनों का भी ध्यान रखिए. एक बार फिर ‘वोकल फॉर लोकल’ का मंत्र देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि दिवाली के साथ आने वाले हर त्योहार में, हर मौके पर हमें इसी का पालन करना है.