प्रदर्शनकारी किसानों ने कहा- कानून में संशोधन नहीं, लें वापस

नई दिल्ली: कृषि कानूनों (Agriculture Bills) को लेकर किसानों का प्रदर्शन आठवें दिन शुरू रहा. किसानों के चल रहे प्रदर्शन को समाप्त करने के लिए आज केंद्र सरकार (Central Government) के साथ चौथे चरण की बातचीत हुई। जो फिर बेतनिजा निकली और किसानों ने तत्काल कानून वापस लेने विज्ञान भवन में हुई इस बैठक में किसानों के 41 प्रतिनिधि शामिल हुए, वहीं सरकार की तरफ से केंद्रीय मंत्री पियूष गोयल (Piyush Goyal), नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) और सोम प्रकाश (Som Prakash) शामिल हुए।

बैठक के बाद बाहर निकले किसानों से साफ़ तौर पर कहा कि वह जब तक नहीं हटेंगे जब तक सरकार कानून वापसी नहीं ले लेती। आज़ाद किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष हरजिंदर सिंह टांडा ने कहा, “हम आशान्वित हैं, कानून गलत हैं. अगली बैठक में हम सरकार पर दबाव बनाएंगे। उन्हें कहना होगा कि वे कानूनों को वापस लेंगे. मेरी राय में, इसे कल के बाद बैठक के दिन में अंतिम रूप दिया जाएगा।”

टांडा ने कहा, “वार्ता ने बहुत कम प्रगति की है। आधे समय में ऐसा लग रहा था कि आज की बैठक का कोई नतीजा नहीं निकलेगा, दूसरी छमाही में ऐसा लगा कि किसान आंदोलन का दबाव है. वार्ता माहौल में आयोजित की गई।”

कानून में कमियों को सरकार किया स्वीकार

एक अन्य किसान नेता बलदेव सिंह सिरसा ने कहा, “हमने सरकार के समक्ष सभी कमियां सूचीबद्ध कीं, उन्हें स्वीकार करना पड़ा कि कमियां हैं और वे संशोधन करेंगे। हमने कहा कि हम संशोधन नहीं चाहते हैं लेकिन कानूनों को वापस लेना चाहते हैं। हमने यह भी मांग की कि MSP को निश्चित और कानून के लिए लागू किया जाए, इसके लिए कानून बनाया जाना चाहिए।”

आंदोलन जल्द समाप्त हो जाएगा

किसान यूनियनों के साथ बातचीत के बाद वाणिज्य और उद्योग राज्य सोम प्रकाश ने कहा, “चर्चा के बिंदु तैयार किए गए हैं। 5 दिसंबर को इन बिंदुओं पर चर्चा होगी और हमें उम्मीद है कि आंदोलन उसी दिन समाप्त हो जाएगा।”