AMRINDER

    चंडीगढ़. पंजाब की कांग्रेस (Punjab Congress) इकाई में घमासान के बीच एआईसीसी के महासचिव और कांग्रेस के पंजाब प्रभारी हरीश रावत (Harish Rawat) मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amrinder Singh) से मिलने आज यानी शनिवार को चंडीगढ़ (Chandigarh) रवाना हो गए हैं । बता दें कि इससे एक दिन पहले अमरिंदर सिंह ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Siddu) को महत्वपूर्ण पद देने को लेकर आपत्ति जताई थी। 

    फिलहाल ऐसी अटकलें हैं कि क्रिकेटर से राजनेता बने सिद्धू को पंजाब में कांग्रेस इकाई का प्रमुख बनाया जा सकता है। रावत की यह यात्रा अमरिंदर सिंह को मनाने की कोशिश के तौर पर देखी जा रही है क्योंकि वह सिद्धू को पार्टी की प्रदेश इकाई का अध्यक्ष बनाए जाने के खिलाफ हैं। 

    जी हाँ देखा जाए तो पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में चल रहे झगड़े को सुलझाने की कवायद अब तेज हो गई है। कांग्रेस के खेमे में पंजाब से लेकर दिल्ली तक फिलहाल हलचल है। कांग्रेस के सीनियर नेता हरीश रावत (Harish Rawat) नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Siddhu) और कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) से मुलाकात की तैयारी में हैं।  इसके लिए हरीश रावत चंडीगढ़ भी पहुंच चुके हैं। लेकिन अब सवाल यह उठ रहे हैं कि क्या हरीश रावत नवजोत सिंह सिद्धू को मनाने के लिए चंडीगढ़ पहुंचे है। कहा जा रहा है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह से मुलाक़ात के बाद हरीश रावत नवजोत सिद्धू से भी आज मुलाक़ात कर सकते हैं।

    इधर इन संके बीच नवजोत सिंह सिद्धू ने पंचकुला में पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ से आज मुलाकात की । इसके साथ ही साथ ही सिद्धू ने कहा कि, “जाखड़ मेरे बड़े भाई हैं। उन्होंने हमेशा मेरा मार्गदर्शन किया है।” लेकिन वहीं दूसरी तरफ पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत भी चंडीगढ़ पहुंचे हैं। वे CM अमरिंदर सिंह से आज मुलाकात करेंगे। ऐसा भी कहा जा रहा है कि सुलह के मद्देनजर यह अंतिम कोशिश पार्टी की तरफ से की जा रही है। इसके बाद बड़े ऐलान की खबर है। अब देखना है कि पंजाब की राजनीति का यह उंट सिद्दू या फिर कैप्टेन के करवट बैठता है।