CM Amrinder Singh

    नई दिल्ली: पंजाब में अगले साल विधानसभा के चुनाव (Punjab Assembly Election 2022) होने जा रहे हैं।  लेकिन उससे पहले सूबे में सियासी संग्राम कांग्रेस पार्टी के भीतर शुरू है। मामले को सुलझाने के लिए राजधानी दिल्ली में मैराथन बैठकें हो रही हैं। पिछले तीन दिनों के भीतर लगभग सभी कांग्रेस (Congress) के विधायकों और सांसदों से मुलाकात के बाद हरीश रावत, जेपी अग्रवाल, मल्लिकार्जुन खड़गे ने आज पिछले विधानसभा चुनाव में हारे हुए उम्मीदवारों को मिलने के लिए बुलाया गया है। 

    वहीं खबर है कि पंजाब में जो सियासी संराम शुरू है उसे पार्टी जल्द सुलझाना चाहती है। यही कारण है कि लगातार बैठकों का दौर शुरू है। रिपोर्ट के अनुसार आज पैनल सबसे पहले सांसद मनोज तिवारी से बातचीत करने जा रही है। खबर है कि सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह भी जल्द ही पैनल के समक्ष आकर अपनी बात रखने वाले हैं। हो सकता है आज या फिर कल मुख्यमंत्री दिल्ली आकर पार्टी पैनल के सामने अपना पक्ष रखें। 

    गौर हो कि पंजाब कांग्रेस में चल रहे विवाद को सुलझाने के मकसद से गठित समिति ने कई सांसदों और पूर्व प्रदेश अध्यक्षों से मुलाकात कर उनकी राय समझी है। जानकारी के अनुसार पिछले तीन दिनों के भीतर करीब 80 कांग्रेस नेताओं ने इस समिति के समक्ष पेश होकर अपनी बात रखी हुई है।