JALLORE

    जालोर. राजस्थान (Rajasthan) से एक बड़ी ही खौफनाक खबर आ रही है। यहाँ कड़ी धूप में अपनी नानी के साथ पैदल चल रही पांच वर्षीय बच्ची को पानी नहीं मिलने के कारण मौत होने का एक बड़ा मामला सामने आया है। सूत्रों के अनुसार यह घटना रविवार की है। घटना के मुताबिक रानीवाड़ा तहसील के अंतर्गत डूंगरी निवासी वृद्ध महिला सुखीदेवी का सिरोही जिले के मंडार के समीप रायपुर में ही पीहर है। सुखीदेवी अपनी पांच वर्षीय नातिन (दोहिती) के साथ पीहर गई हुई थी। बीते रविवार 6 जून को सुबह मौसम ठंडा होते देखकर पांच वर्षीय नातिन के साथ वापस बहिन के पास जाने के लिए पैदल ही रवाना हो गई। इन लोगों ने करीब दस बारह किलोमीटर की दूरी ठीक से तय कर ली थी, इस दौरान दोपहर में तापमान का पारा फिर चढ़ गया था और मौसम फिर से उमस भरा हो गया था।

    पुलिस ने पिलाया वृद्धा को पानी पिलाया, बच्ची का टुटा दम :

    इधर सूत्रों के अनुसार वृद्धा के पास पानी की एक बोतल भी नहीं थी और जिस मार्ग से गुजर रही थी, वह भी रेतीला और पुरी तरह से कच्चा मार्ग था। इधर तेज गर्मी के कारण और पानी नहीं मिलने से वृद्धा और बच्ची दोनों को ही को डिहाइड्रेशन की समस्या हो गई । जिसके चलते दोनों ही बेहोश होकर गिर पड़े। काफी देर बाद वहां के किसी गुजरते हुए चरवाहे ने महिला को देखा तो वह सकते में आ गया और सूरजवाड़ा सरपंच कृष्णकुमार पुरोहित को फोन किया। बाद में पुलिस भी मौके पर पहुंच गयी, लेकिन तब तक उस मासूम बच्ची का दम टूट चुका था। इसके बाद उक्त वृद्ध महिला को पुलिस ने पानी पिलाया और बाद में उसके उपचार के लिए उसे तुरंत अस्पताल में भर्ती करवाया।

    बारिश की बूंदों ने बचाया वृद्धा को : 

    इस पूरी घटना की महिला ने आपबीती सुनाते हुए कहा कि तेज गर्मी केचलते वह और उसनी नातिन दोनों ही बेहोश होकर गिर गए थे। उसे तब कुछ भी नहीं सूझ रहा था, लेकिन काफी देर बाद आसमान से हल्की बूंदाबांदी शुरू हुई, जिससे उसे तो कुछ राहत मिल गई और उसकी जान बच गई, लेकिन तब तक उसकी मासूम नातिन की मौत हो चुकी थी।

    बताया जा रहा है कि वृद्ध महिला मानसिक रूप हल्की सी असहज है। वह नातिन के साथ पीहर गई थी, वापस सुबह मौसम ठंडा देखा तो पैदल ही वहां से रवाना हो गई, उसके पास में पीने का पानी तक नहीं था। इस्धर दिन में तेज गर्मी, तपन और उमस के चलते इन लोगों को डिहाइड्रेशन हुआ जिससे उक्त बच्ची की मौत हो गई। हालाँकि हल्की बूंदाबांदी होने से उक्त वृद्धा की जान बच गयी है और  है। उसका उपचार जारी है।