rajnikanth

चेन्नई. सुपरस्टार रजनीकांत के नजदीकी सहयोगी टी. मनियन ने शनिवार को कहा कि रजनीकांत की राजनीति का किसी धर्म विशेष से लेना देना नहीं होगा और वह बिना किसी भेदभाव के, समावेश की राजनीति करेंगे। मनियन ने कहा कि आध्यात्मिक राजनीति की शुरुआत महात्मा गांधी ने की थी। (Rajinikanth’s spiritual politics is not against any religion)

रजनीकांत ने बृहस्पतिवार को कहा था कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए वह जनवरी 2021 में अपनी राजनीतिक पार्टी की शुरुआत करेंगे और आध्यात्मिक राजनीति को आगे बढ़ाएंगे। पूर्व कांग्रेस नेता मनियन को रजनीकांत ने अपनी प्रस्तावित पार्टी में प्रभारी की भूमिका दी है। मनियन ने यहां संवाददाताओं से कहा कि आध्यात्मिक राजनीति और धार्मिक राजनीति के बीच कोई संबंध नहीं है।

उन्होंने कहा, “आध्यात्मिकता का कोई धर्म नहीं होता। एक आध्यात्मिक व्यक्ति वह है जो प्रत्येक प्राणी में स्वयं को और सबको स्वयं में देखता है। उसकी कोई जाति, धर्म या भेद नहीं होता। आध्यात्मिकता सबसे प्रेम करने का माध्यम है। रजनी वही करने जा रहे हैं।” मनियन ने कहा कि रजनीकांत की राजनीति को किसी विशेष धर्म के खिलाफ या पक्ष में नहीं देखना चाहिए क्योंकि वह उन सभी तमिल लोगों के ऋणी हैं जिन्होंने उन्हें ऊंचाई पर पहुंचाया है।

उन्होंने कहा, “ऐसा नहीं है कि वह किसी विशेष धर्म या जाति के लिए काम करेंगे। जाति और धर्म से ऊपर उठकर पूरे तमिलनाडु ने उन्हें इस ऊंचाई पर पहुंचाया है और इसलिए उन्होंने सभी को साथ लेकर आध्यात्मिक राजनीति करने का फैसला लिया है।” (एजेंसी)