रणजीत बच्चन हत्याकांड: दूसरी पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर कराई हत्या

लखनऊ: प्रदेश के सबसे चर्चित रणजीत बच्चन हत्याकांड की गुत्थी सुलझ गई है. पुलिस ने हिंदूवादी नेता रणजीत बच्चन की हत्या करने के लिए उनकी दूसरी पत्नी स्मृति श्रीवास्तव और प्रेमी देवेंद्र को गिरफ्तार कर

लखनऊ: प्रदेश के सबसे चर्चित रणजीत बच्चन हत्याकांड की गुत्थी सुलझ गई है. पुलिस ने हिंदूवादी नेता रणजीत बच्चन की हत्या करने के लिए उनकी दूसरी पत्नी स्मृति श्रीवास्तव और प्रेमी देवेंद्र को गिरफ्तार कर लिया है. इस हत्याकांड में दोनों की मदद करने वाले संजीत गौतम को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. वही हत्या करने वाला शूटर जीतेंद्र फरार है. स्मृति और देवेंद्र शादी करना चाहते थे लेकिन रणजीत बच्चन इसमें बाधा बन रहा था. लखनऊ पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय ने गुरुवार को प्रेस कांफ्रेंस कर यह जानकारी दी. 

उन्होंने बताया कि, इस हत्याकांड के मुख्यआरोपी स्मृति को लखनऊ के विकास नगर स्थित उसके आवास से गिरफ्तार किया गया है, जबकि देवेंद्र को उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश बॉर्डर से गिरफ्तार किया गया है। रात तक उसे लखनऊ ले आया जाएगा। वही संजीत गौतम को मोहनलालगंज के जबरौली से बृहस्पतिवार दोपहर गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस कमिश्नर ने हत्या की मुख्याकरण का खुलासा करते हुए बताया कि, रणजीत बच्चन की दूसरी पत्नी स्मृति श्रीवास्तव और देवेंद्र दोनों एक दुसरे से प्रेम करते थे और शादी करना चाहते थे. लेकिन रणजीत स्मृति को तलाक नही दे रहा था. पिछले चार साल से दोनों के बीच तलाक का केस चल रहा था.

कमिश्नर ने बताया, " 17 जनवरी को स्मृति और रणजीत की मैरिज एनवर्सरी थी। दोनों लखनऊ के सिकंदरबाग चौराहे पर मिले थे। रणजीत स्मृति को लेकर एनवर्सरी सेलीब्रेट करने के लिए होटल जाना चाहता था पर स्मृति के इंकार पर भड़के रणजीत ने उसे थप्पड़ मार दिया। रणजीत द्वारा स्मृति को थप्पड़ मारे जाने की जानकारी मिलते ही देवेंद्र आग बबृला हो गया और रणजीत को रास्ते से हटाने का फैसल कर लिया. " 

पुलिस कमिश्नर पाण्डेय ने बताया कि, हत्या के लिए उसने पहले स्मृति को राजी किया. शार्पशुटर जीतेंद्र को उन्होंने हत्या करने की सुपारी दी. वही संजीत ने शूटर जीतेन्द्र को हत्या स्थल तक पहुचाया. जिसके बाद जीतेंद्र रणजीत के पीछे ग्लोब पार्क तक जाता है और उसकी हत्या कर देता है

सीसीटीवी और कॉल डिटेल की मदद
पुलिस कमिश्नर ने बताया कि, हत्या की गुत्थी सुलझाने में हत्या करने वाले जगह पर लगे कैमरा और रणजीत के कॉल डिटेल में बहुत मदद की. हत्या वाले दिन से पुलिस की आठ टीमों ने रणजीत के ओसीआर स्थित आवास से ग्लोब पार्क तक 40 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे खंगाले. इसी के साथ रणजीत सहित परिवार वालों के कॉल डिटेल के आधार पर 87 मोबाइल नंबर को ट्रेस किया।

वही जनपथ मार्किट के पास मिले सीसीटीवी कैमरे की फुटेज से करीबी पर शक गहराने लगा। जिसके बाद पुलिस को परिवारीजनों पर भी संदेह हुआ. संदेह के आधार पर इनसे सख्ती से पूछताछ शुरूकी गई. 

गौरतलब है कि, हिन्दू महासभा के अंतराष्ट्रीय अध्यक्ष रणजीत बच्चन की रविवार को हजरतगंज के ग्लोब पार्क के सामने गोली मार कर हत्या कर दीगई थी. वही उनका एक साथी इसमें घायल होगया था.