देश में रिकवरी रेट बढ़कर हुआ 94 प्रतिशत, सरकार ने 44 करोड़ खुराक का दिया आर्डर

    नई दिल्ली: देश में कोरोना (Corona) से ठीक होने वाले वाली की संख्या लगातार बढ़ती जारही है। पिछले 24 घंटे में 1.82 लाख से ज्यादा लोग हुए ठीक हो कर घर लौटे हैं। जिसके बाद रिकवरी रेट बढ़कर 94.3 प्रतिशत हो गई है। इसमें अस्पताल और होम आइसोलेशन में रहा रहे मरीज शामिल है। मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की आयोजित प्रेस वार्ता में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल (Lov Agrawal) ने यह जानकारी दी। 

    अग्रवाल ने कहा, “जहां 7 मई को देश में प्रतिदिन के हिसाब से 4,14,000 मामले दर्ज़ किए गए थे, वे अब 1 लाख से भी कम हो गए हैं। पिछले 24 घंटों में 86,498 मामले देश में दर्ज़ किए गए। यह 3 अप्रैल के बाद अब तक एक दिन के सबसे कम मामले हैं।

    209 जिलों में 100 से ज्यादा मामले

    स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, “4 मई को देश में 531 ऐसे ज़िले थे, जहां प्रतिदिन 100 से अधिक मामले दर्ज़ किए जा रहे थे, ऐसे ज़िले अब 209 रह गए हैं। 3 मई को देश में रिकवरी रेट 81.8% था, अब रिकवरी रेट 94.3% हो गया है। पिछले 24 घंटों में देश में 1,82,000 रिकवरी हुई हैं। हर राज्य में अब रिकवरी की संख्या प्रतिदिन दर्ज़ किए जा रहे मामलों की संख्या से ज्यादा है।”

    कोरोना से बच्चे गंभीर बीमार हो रहे ऐसा डेटा नहीं 

    एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा, “भारत का या विश्व का डेटा देखें तो अब तक ऐसा कोई डेटा नहीं आया जिसमें दिखाया गया है कि बच्चों में अब ज्यादा गंभीर संक्रमण है… अभी कोई सबूत नहीं है कि अगर कोविड की अगली लहर आएगी तो बच्चों में ज्यादा गंभीर संक्रमण होगा।”

    44 करोड़ खुराक का दिया आर्डर  

    नीति आयोग सदस्य स्वास्थ्य डॉ वीके पॉल ने कहा, “निजी क्षेत्रों (अस्पतालों) के लिए टीकों की कीमत वैक्सीन निर्माताओं द्वारा तय की जाएगी; राज्य निजी क्षेत्र की समग्र मांग करेंगे, जिसका अर्थ है कि वे देखेंगे कि उसके पास सुविधाओं का कितना नेटवर्क है, और उसे कितनी खुराक की आवश्यकता है…” 

    वहीं वैक्सीन की उपलद्धता पर पॉल ने कहा, “सरकार ने कोविशील्ड की 25 करोड़ खुराक और कोवैक्सिन की 19 करोड़ खुराक खरीदने का आदेश दिया है। सरकार ने जैविक ई के टीके की 30 करोड़ खुराक खरीदने का भी आदेश दिया है, जो सितंबर तक उपलब्ध होगा।”

    स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, “कोविशील्ड (25 करोड़ खुराक) और कोवैक्सिन (19 करोड़ खुराक) की ये 44 करोड़ खुराक अब से शुरू होकर दिसंबर 2021 तक उपलब्ध होंगी। इसके अतिरिक्त, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक को दोनों टीकों की खरीद के लिए 30% अग्रिम जारी किया गया है।”

    विचार विमर्श के बाद लिया निर्णय 

    वहीं जब डॉ. पॉल से यह पूछा गया कि, सुप्रीम कोर्ट की चिंता के बाद टीकाकरण को लेकर निए नियम जारी किए गए हैं। इस पर जवाब देते हुए पॉल ने कहा, “हम एससी की चिंता का सम्मान करते हैं, लेकिन भारत सरकार 1 मई से विकेन्द्रीकृत मॉडल के कार्यान्वयन का मूल्यांकन कर रही थी। ऐसे निर्णय विश्लेषण और परामर्श के आधार पर समय की अवधि में लिए जाते हैं।”