Sachin Pilot

जयपुर. राजस्थान की सियासत और लगातार गरमाती जा रही है। सचिन पायलट और अशोक गेहलोत में खींचतान शुरू है। इसी बीच सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सचिन पायलट कल भाजपा में शामिल हो सकते है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा की मौजूदगी में वह भाजपा में शामिल होंगे। वहीं सूत्रों के अनुसार पायलट समेत उनके समर्थक विधायक आज ही अपना विधानसभा से इस्तीफ़ा दे सकते है। सभी विधायक विधानसभा अध्यक्ष को सीधा अपना इस्तीफ़ा सौंप सकते हैं।

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार पायलट लगातार भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के संपर्क में है और उन्होंने आज उनसे मुलाकात भी की। पायलट दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया से भी मिले। जिसके बाद सिंधिया ने पायलट को एक बड़े भाजपा नेता के घर ले गए जहां उन्होंने बैठक की।

सचिन पायलट दावा किया था कि उनको 30 से ज्यादा विधायकों का समर्थन है। लेकिन सूत्रों की माने तो उन्हें सिर्फ 11 विधायकों का ही समर्थन हैं। वहीं राजस्थान कांग्रेस ने दावा किया हैं की उनके पास 90 कांग्रेस विधायक है। ऐसे में राजस्थान की सरकार को गिरने से बचाने कांग्रेस आलाकमान क्या कदम उठाएंगी इस पर सबकी नजर लगी हुई है। कल यानी सोमवार को सुबह 10:30 बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक है। लेकिन इस बैठक में सचिन पायलट ने शामिल होने से मना कर दिया हैं।

बता दें कि इससे पहले मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया को दरकिनार करने के चलते कमलनाथ सरकार गिर गई थी। कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा लगातार किये जा रहे उपेक्षा से नाराज होकर सिंधिया ने इसी साल मार्च में अपने समर्थक विधायकों के साथ भाजपा में प्रवेश किया।  

 राजस्थान की सियासी उठापठक के बीच आज सिंधिया ने ट्वीट कर कहा कि, ‘मेरे पुराने साथी रहे सचिन पायलट को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा हाशिए और दरकिनार करते देख दुखी हूँ .इससे यह पता चलता है कि कांग्रेस में योग्यता और काबिलियत की कोई अहमियत नहीं है।’