oxygen

    नयी दिल्ली: देश भर में ऑक्सीजन की आपूर्ति में तेजी लाने के लिए केंद्र ने कई कदम उठाए हैं जिनमें खाली टैंकरों को हवाई मार्ग से ढोने और 500 चालकों को प्रशिक्षण देने का काम शामिल है। यह जानकारी मंगलवार को गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी। केंद्रीय गृह मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव पीयूष गोयल ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि देश में भविष्य की जरूरतों को देखते हुए विदेशों से 5805 एमटी तरल मेडिकल ऑक्सीजन का आयात किया जा रहा है।

    अधिकारी ने संवाददाता सम्मेलन में बताया कि इनमें से 3440 मीट्रिक टन (एमटी) संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से, 1505 एमटी कुवैत से, 600 एमटी फ्रांस से, 200 एमटी सिंगापुर से और 60 एमटी बहरीन से मंगाया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘वर्तमान में देश में ऑक्सीजन का पर्याप्त भंडार है।”

    गोयल ने कहा कि जहां भी ऑक्सीजन मौजूद है वहां से इसके आयात के लिए फास्ट ट्रैक व्यवस्था की गई है।उन्होंने कहा कि आपूर्ति में कम समय लगे, इसके लिए रेलवे और वायुसेना की सेवाएं ली जा रही हैं। गोयल ने कहा कि चूंकि वायुसेना भरे हुए टैंकर का परिवहन नहीं कर सकती है इसलिए निर्माण स्थलों तक खाली टैंकर वायु मार्ग से पहुंचाए जा रहे हैं ताकि एक तरफ से यात्रा में लगने वाले समय को कम किया जा सके।

    उन्होंने कहा कि देश के अंदर 7049 मीट्रिक टन (एमटी) के 374 खाली टैंकर का परिवहन वायु मार्ग से किया गया, जबकि भारतीय वायुसेना के मार्फत 1407 एमटी क्षमता के 81 कंटेनर आयात किए गए।

    अधिकारी ने बताया कि इसके अलावा 1252 ऑक्सीजन सिलेंडर, तीन ऑक्सीजन निर्माण संयंत्र और 835 ऑक्सीजन सांद्रक भी आयात किए गए हैं। गोयल ने बताया कि 157 ऑक्सीजन विशेष रेलगाड़ियों ने देश भर में 637 टैंकर भी ढोए हैं।(एजेंसी)