Center package for agricultural sector, like any five-year plan: Pawar

मुंबई. मध्यप्रदेश का हाल तो अब किसी से न छुपा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कल ही पंजा छोड़ कमल का दामन थाम लिया और मिनटों में उनके लिए राज्यसभा के दरवाज़े भी खुल गए। सब हर तरफ

मुंबई. मध्यप्रदेश का हाल तो अब किसी से न छुपा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कल ही पंजा छोड़ कमल का दामन थाम लिया और मिनटों में उनके लिए राज्यसभा के दरवाज़े भी खुल गए। सब हर तरफ यही सवाल उठ रहा है की क्या महाराष्ट्र की बारी हैं। इन सभी उठते शोलों के बीच एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने बुधवार को दावा करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ सक्षम नेता हैं। जनता को भी उन पर विश्वास है।

 
उन्होंने आगे कहा कि महाराष्ट्र में मध्यप्रदेश के अच्छी स्थिति हैं, महाराष्ट्र में ऐसा नहीं होगा। मध्यप्रदेश में अब यह देखने लायक है कि कमलनाथ सरकार इससे कैसे निपटती हैं। अपनी बात में आगे जोड़ते हुए उन्होंने यह भी कहा कि आलाकमान को ज्योतिरादित्य सिंधिया से बात करनी चाहिए थी।
 
एनसीपी प्रमुख ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कि सराहना करते हुए कहा कि ठाकरे सबको लेकर चल रहे है इसलिए मध्यप्रदेश जैसा हाल यहाँ नहीं होगा। वही विपक्ष दल एक ही राग आलाप रहे है कि महाराष्ट्र में 3 दलों वाली सरकार का भविष्य ज्यादा दिन नहीं चलने वाला हैं।