किसान आंदोलन को लेकर शरद पवार नौ दिसंबर को राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे

मुंबई. केंद्र के नए कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसान आंदोलन को लेकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार नौ दिसंबर को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगे। पार्टी ने रविवार को यह जानकारी दी। राकांपा के प्रवक्ता महेश तापसे ने कहा कि पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री पवार किसानों के प्रदर्शन के मद्देनजर राष्ट्रपति को देश के हालात से अवगत कराएंगे।

राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर डटे हजारों किसानों के प्रतिनिधियों ने कृषि कानूनों के खिलाफ आठ दिसंबर को भारत बंद का आह्वान किया है। सितंबर में संसद के मानसून सत्र के दौरान कृषि विधेयकों को राज्यसभा में पेश किए जाने के दौरान राकांपा के सदस्य सदन छोड़कर चले गए थे।

दरअसल किसान आन्दोलन के बढे होते हुए रूप को देखकर शरद पवार ने कहा, “पंजाब और हरियाणा के किसान, गेंहू और धान के मुख्य उत्पादक हैं और वे दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे हैं। अगर इस विकट स्थिति का समाधान जल्द ही नहीं किया गया तो जल्द ही देशभर के सभी किसान उनके साथ इसमें शामिल हो जाएंगे। हमने तो सरकार से पहले ही गुजारिश की थी कि इस बिल को पास करने में उन्हें जल्दबाजी नहीं दिखानी चाहिए।”