शिवसेना MP अरविंद सावंत ने नवनीत राणा को दी धमकी, कहा- ‘देखता हूँ कैसे घूमती है महाराष्ट्र में’

    नई दिल्ली: महाराष्ट्र के अमरावती (Amravati) से निर्दलीय सांसद नवनीत राणा (Navneet Rana) ने शिवसेना सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत (Arvind Sawant) पर धमकी देने का आरोप लगाया है। सोमवार को लोकसभा स्पीकर ओम बिरला (Loksabha Speaker Om Birla) को लिखे पत्र में कहा, “शिवसेना नेता ने मुझे धमकी देते हुए कहा कि, तू महाराष्ट्र में कैसे घूमती है, तुझे भी जेल भेजूंगा।” वहीं सावंत ने खुद पर लगे आरोपों से इनकार किया है।”

    सांसद नवनीत ने पत्र में क्या कहा?

    राणा ने अपने पत्र में लिखा, “महाराष्ट्र में चल रहे मनसुख हिरेन हत्याकांड, सचिन वेज मामले के साथ-साथ मुंबई के एक पूर्व पुलिस आयुक्त द्वारा लिखे गए पत्र में ठाकरे सरकार की भूमिका पर कई सवाल उठ रहे हैं। यही सवाल मैंने संसद में उठाया था। एक महिला सांसद के रूप में, उन्होंने महाराष्ट्र में बिगड़ती कानून व्यवस्था के खिलाफ संसद में आवाज उठाई।”

    उन्होंने कहा, “शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने मुझे लोकसभा लॉबी में धमकी देते हुए कहा “मैं देखता हूँ कि तू महाराष्ट्र में कैसे घूमती हैं। मैं तुझे भी जेल में डाल दूंगा। इससे पहले भी, शिवसेना के लेटरहेड और फोन पर मेरे चेहरे पर तेजाब फेंकने और मुझे मारने की धमकी दी गई थी।”

    महिला सांसद ने कहा, “जिस तरह से शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने आज मुझे धमकी दी है। यह सिर्फ मेरा अपमान नहीं है, बल्कि मेरे समेत पूरे देश की महिलाओं का अपमान है।” सांसद नवनीत राणा ने लोकसभा अध्यक्ष, प्रधानमंत्री कार्यालय, केंद्रीय गृह मंत्रालय, केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री और दिल्ली पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर मांग की है कि सांसद अरविंद सावंत के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।

    मैं उसे क्यों धमकी दूंगा?

    वहीं खुद पर धमकाने के आरोप लगने पर सावंत ने सफाई देते हुए कहा, “मैं उसे क्यों धमकी दूंगा? यदि उस समय उसके पास मौजूद लोग थे, तो, वे बता सकते थे कि क्या मैंने उसे धमकी दी है। उनकी बात करने का तरीका और बॉडी लैंग्वेज गलत है।”

     

    सभापति से करुँगी बात 

    सांसद नवनीत राणा पर शिवसेना सांसद अरविंद सावंत के खिलाफ संसद में धमकी देने का आरोप पर भाजपा सांसद रमा देवी ने कहा, “इस पर नवनीत राणा ने मुझसे बात की है। अरविंद सावंत को सांसद होने के नाते ऐसी बात नहीं कहनी चाहिए थी। मैं सभापति से इसे गंभीरता से लेने के लिए कहूंगा।”