SPUTNIK
Representative Image

नयी दिल्ली. रूस की Sputnik V वैक्सीन कोरोना वायरस के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करने में 91.4 फीसदी असरकारक है और कोरोना वायरस के गंभीर मामलों में इसने सौ फीसदी असर दिखाया है। यह जानकारी सोमवार को टीका निर्माताओं ने दी। गामलेया सेंटर और रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) ने बयान जारी कर कहा, “Sputnik V वैक्सीन 91.4 फीसदी असरकारी है और यह रिपोर्ट पहला डोज देने के 21 दिनों बाद प्राप्त डाटा के विश्लेषण पर आधारित है।”

इसने बताया कि वैक्सीन ने कोरोना वायरस के गंभीर मामलों में सौ फीसदी असर दिखाया है। बयान में कहा गया कि तीसरे नियंत्रण बिंदु से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर गामलेया सेंटर एक रिपोर्ट तैयार करेगा जिसका इस्तेमाल विभिन्न देशों में Sputnik V वैक्सीन का तेजी से पंजीकरण कराने में किया जाएगा।

रूसी संघ के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुरासको ने कहा, “गामलेया सेंटर वैक्सीन के असरकारक होने पर नया आंकड़ा काफी उत्साहजनक है। आज यह हर किसी को पता है कि पूरी दुनिया में व्यापक स्तर पर टीकाकरण के बाद ही महामारी का खात्मा संभव है।”

उन्होंने कहा कि इस सिलसिले में हर देश के लोगों के लिए Sputnik V सहित प्रभावी एवं सुरक्षित वैक्सीन की बराबर पहुंच सुनिश्चित करना ही विदेशी नियामक संस्थाओं और अंतरराष्ट्रीय संगठनों का लक्ष्य होना चाहिए।

गामलेया सेंटर के निदेशक एलेक्जेंडर गिंट्सबर्ग ने कहा, “तीसरे चरण के क्लीनिकल परीक्षण के दौरान Sputnik V वैक्सीन के परिणाम ने उच्च प्रभावशीलता और स्वास्थ्य के लिए पूरी तरह सुरक्षा के हमारे विश्वास का समर्थन किया है।”

आरडीआईएफ के सीईओ किरील दमित्रीदेव ने कहा, “Sputnik V वैक्सीन के क्लीनिकल परीक्षण के तीसरे एवं अंतिम नियंत्रण बिंदु के आंकड़ों के विश्लेषण से टीके की 90 फीसदी से अधिक प्रभावशीलता की पुष्टि हुई है।”

उन्होंने कहा कि प्राप्त आंकड़ों के आधार पर एक रिपोर्ट तैयार की जाएगी जिसका इस्तेमाल अन्य देशों में रूसी वैक्सीन का तेजी से पंजीकरण कराने की खातिर आवेदन सौंपने में किया जाएगा।