रामायण के श्रीराम ‘अरुण गोविल’ की राजनीति में हुई एंट्री, बीजेपी में हुए शामिल

    नई दिल्ली: छोटे पर्दे का सबसे बड़ा धारावाहिक रामायण (Ramayan) में श्रीराम (Lord Rama) का किरदार निभाने वाले अभिनेता अरुण गोविल (Arun Govil) की राजनीति में एंट्री हो गई है। गुरुवार को उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) का दामन थाम लिया। नई दिल्ली स्थित भाजपा मुख्यालय (BJP Headquarter) में आयोजित कार्यक्रम में पार्टी महासचिव अरुण सिंह (Arun Singh) ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। 
     

    प्रधानमंत्री मोदी ने देश की परिभाषा बदली 

    भाजपा में शामिल होने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए गोविल ने कहा, “मौजूद समय जो हमारा कर्तव्य है उसे करना चाहिए। मुझे राजनीति आज से पहले समझ नही आती थी, लेकिन मोदी जी ने जब से देश को संभाला है तब से देश की परिभाषा ही बदल गई है। मेरा दिल और दिमाक जो कहता है मै उसे कर देता हूँ।” उन्होंने कहा, “अब मैं देश के लिए योगदान देना चाहता हूं और इसके लिए हमें एक मंच की जरूरत है और बीजेपी आज सबसे अच्छा मंच है।”

     

    पहली बार देखा ‘जय श्री राम’ के नारे से एलर्जी 

    गोविल ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए कहा, “मैंने पहली बार देखा जब ममता जी को य श्री राम’ के नारे से एलर्जी हुई है। यह एक नारा नहीं है, यह जनता की भक्ति है अपने आराध्य श्री राम के लिए।”
     

    लड़ सकते हैं विधानसभा चुनाव 

    विधानसभा चुनाव के ऐन पहले गोविल का भाजपा में शामिल होना मेहद ख़ास मानी जा रही है। भगवा दल में शामिल होने के बाद कयास लगना शुरू हो गया है कि भाजपा उन्हें अगले वर्ष होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा का चुनाव लड़वा सकती है। हालांकि, इसको लेकर ना तो अभिनेता और ना ही भाजपा ने कुछ कहा है। 
     

    रामायण के अन्य कलाकार राजनीति में आ चुके 

    यह पहला मौका नहीं है, जब रामायण के दूसरे कलाकारों ने रजनीति में अपना भग्य आजमाया है। ‘सीता’ की भूमिका निभाने वाली दीपिका चिखलिया के अलावा ‘हनुमान’ की भूमिका निभाने वाले दारा सिंह और ‘रावण’ की भूमिका निभाने वाले अरविंद त्रिवेदी भी राजनीति की पारी खेल चुके हैं। दीपिका तो 10 साल भाजपा की टिकट पर लोकसभा की सदस्य रह चुकी हैं।