Corona test
File Photo

    नयी दिल्ली/मुंबई. जहाँ एक तरफ भारत (India) पर फिर कोरोना संक्रमण (Corona Pandemic) हावी होता दिख रहा है। वहीँ अब इसके और कोरोना की नयी लहर के चलते दिल्ली (Delhi) से महाराष्ट्र (Maharashtra) तक का फिर बुरा हाल होता दिख रहा है। अब एक बार फिर से महाराष्ट्र कोरोना का हॉट स्पॉट (Hot spot) बनता  दिख रहा है। अब यहाँ संक्रमण के मामले  लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं।

    इसी क्रम में अब दिल्ली में भी कोरोना की स्पीड तेज होती जा रही है। अब जहाँ दिल्ली में जहां एक ही दिन में 400 से अधिक कोरोना के केस सामने आए, वहीं महाराष्ट्र में यह आंकड़ा तो 14 हजार को भी पार कर गया। वहीं अब नागपुर (Nagpur) में कोरोना लॉकडाउन का फिर ऐलान कर दिया गया है। मगर जिस तरह से एक बार फिर मामले बढ़ रहे हैं, उससे यही आशंका जताई जा रही है कि ऐसे प्रतिबंध अब नागपुर के बाद महाराष्ट्र के कई अन्य जगह भी लग सकते हैं।

    महाराष्ट्र में सम्पूर्ण लॉक डाउन होने का डर:

    दरअसल, बीते गुरूवार को महाराष्ट्र में कोरोना वायरस (Coronavirus) के 14,317 मरीज मिले जो इस साल एक दिन में सबसे ज्यादा हैं। इसके बाद कुल मामले 22,66,374 पहुंच गए हैं। इस पर एक स्वास्थ्य अधिकारी का कहना था कि 57 संक्रमितों के दम तोड़ने के बाद राज्य में मृतक संख्या 52,667 पहुंच गई है। बीते साल सात अक्टूबर को एक दिन में 14,578 नए मामले रिपोर्ट हुए थे जिसके बाद से दैनिक मामलों में गिरावट दर्ज होने लगी थी।वहीँ बीते गुरूवार को बृहस्पतिवार को 7,193 मरीजों को अस्पतालों से छुट्टी दी गई है। इसके बाद कुल 21,06,400 मरीज संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि राज्य में संक्रमण का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या अब एक लाख के पार चली गई है। वहीं राज्य में 1,06,070 लोग संक्रमण का उपचार करा रहे हैं। पिछले साल 6 नवंबर 2020 को राज्य में संक्रमण के इलाजरत मरीजों की संख्या 1,02,099 थी। इसके बाद उपचाररत मरीजों की संख्या कम होने लगी थी।

    इसी के चलते अब महाराष्ट्र में भी फिर से सम्पूर्ण लॉकडाउन का खतरा मंडराने लगा है। महाराष्ट्र की स्थिति कितनी भयावह होती जा रही है, इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा लीजिये कि  नागपुर में एक सप्ताह (15 से 21 मार्च) का लॉकडाउन लगाया गया है। इतना ही नहीं, ठाणे में भी करीब ऐसे ही 16 हॉटस्पॉट में 31 मार्च तक लॉकडाउन लगा दिया गया है। वहीं राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी अब ऐसे संकेत दिए हैं कि अगर कोरोना की रफ्तार ऐसी ही बेकाबू रही तो फिर अन्य जगहों पर भी फिर से नए सिरे से लॉकडाउन लगाए जा सकते हैं। हालांकि, नागपुर के बाद, पुणे, मुंबई और ठाणे जैसे इलाके रडार पर होंगे यह तो स्वाभाविक ही है।

    दिल्ली के भी हाल बुरे:

    अब अगर  दिल्ली की बात करें तो यहां दिन-प्रतिदिन कोरोना संक्रमितों के बढ़ने का सिलसिला अब लगातार ही जारी है। बीते गुरुवार को दिल्ली में अकेले कोरोना के 400 से अधिक नए मरीज मिलने के बाद यहां संक्रमितों का कुल आंकड़ा 6।42 लाख के पार पहुंच चूका है। इसके साथ ही अब कोरोना पॉजिटिविटी रेट भी बढ़कर 0।59 % पर है। दिल्ली में बढ़ते मामलों के बीच अब एक बार फिर कंटेनमेंट जोन की संख्या भी फिर से बढ़कर 600 के पास आ खड़ी हो गयी है। दिल्ली में बीते गुरुवार को 409 नए लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। यह राजधानी में लगभग 2 महीने बाद एक बार फिर एक दिन में सबसे अधिक लोगों के कोरोना संक्रमित होने का आंकड़ा आया है है। इससे पहले 8 जनवरी 2021 को दिल्ली में 444  नए मामले देखे गए थे।

    क्या हैं दिल्ली में कोरोना आंकड़े:

    अब इन नए मामलों के आने के बाद बाद राजधानी में कोरोना के एक्टिव केस की संख्या भी बढ़कर 2000 से अधिक हो चुकी है। वहीं दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, बीते गुरुवार को कुल 2020 एक्टिव केस हो गए हैं। वहीं गुरुवार को कोरोना मुक्त होने के बाद 286 मरीजों को छुट्टी दी गई, जबकि 3 मरीजों ने कोरोना के कारण काल के गाल में समा गए हैं। अब अकेले दिल्ली में ही कोरोना के ‌कुल मरीज 6,42,439 हो गए हैं। इनमें से 6,29,485 मरीज कोरोना से ठीक भी हो चुके हैं। वहीं, अब तक 10,934 मरीजों की कोरोना संक्रमण के चलते मौत हुई है।

    क्या हैं महाराष्ट्र में कोरोना आंकड़े:

    बहरहाल महाराष्ट्र में बीते 14 फरवरी से दैनिक नए मामलों में फिर बढ़ोतरी होने लगी। इस बार नागपुर शहर में सबसे ज्यादा 1701 नए मामले रिपोर्ट हुए हैं। इसके बाद पुणे में 1514 और मुंबई नगर में 1509 नए मरीजों की पुष्टि हुई है। बता दें कि मुंबई में कोरोना के कुल मामले 3,38,643 पहुंच गए हैं तथा 4 और लोगों की मौत के बाद शहर में कुल 11,519 संक्रमितों की मृत्यु हो चुकी है। महाराष्ट्र में फिलहाल 4,80,083 लोग घर में पृथक-वास में हैं जबकि 4719 संस्थागत पृथक-वास में हैं। बीते गुरूवार को रिपोर्ट हुई 57 मौतों में से 25 पिछले 48 घंटे में हुई हैं और 19 गत सप्ताह हुई थीं। शेष 13 मौतें पिछले हफ्ते से पहले वाली अवधि में हुई थीं।