corona

    नयी दिल्ली. एक अच्छी खबर के अनुसार देश (India) में अब कोरोना टीकाकरण (Corona Vaccination) का दूसरा चरण 01 मार्च से शुरू होने वाला है, जिसमें 60 साल से अधिक उम्र के लोगों और 45 साल से अधिक उम्र के उन लोगों को टीका लगाया जाएगा, जो किसी बीमारी से ग्रस्त हैं। वहीं अब तीसरे चरण का टीकाकरण अभियान भी सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ बड़े पैमाने पर निजी अस्पतालों के जरिए भी शुरू किया जाएगा। इतना ही नहीं, आगामी 1 मार्च से पैसे देकर भी यह टीका लगवाया जा सकता है। 

    गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में बीते बुधवार को यह बड़ा निर्णय लिया गया। बाद में संवाददाताओं को जानकारी देते हुए कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद एवं सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि लोगों के पास यह विकल्प होगा कि वे टीकाकरण के लिए निजी एवं सरकारी अस्पतालों दोनों का का चयन कर सकें। 

    कैसे होगा दूसरे चरण में टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन:

    • जहाँ पहले चरण में, स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन श्रमिकों को टीका लगाया गया है। वहीं सरकार के पास अब मतदाता सूची के आधार पर भी वरिष्ठ नागरिकों का डेटा भी है। लेकिन यहां सेल्फ-रजिस्ट्रेशन का एक जरुरी विकल्प भी दिया गया है।
    • सेल्फ-रजिस्ट्रेशन का यह जरुरी विकल्प केवल ऑनलाइन चैनलों तक ही सीमित नहीं होगा क्योंकि कई लोगों इस एप्स को इस्तेमाल करना उतना आसान नहीं होगा। को-विन, आरोग्य सेतु के अलावा, अस्पतालों और कॉमन सर्विस सेंटरों में अब रजिस्ट्रेशन विंडो खुली रहेंगी। यहाँ इस रजिस्ट्रेशन के लिए कोई भी शुल्क नहीं होगा।
    • अब जल्द ही को-विन ऐप का एक नया संस्करण भी लॉन्च कर दिया जाएगा, जहां आम लोग टीकाकरण के लिए लॉग इन और रजिस्टर कर पाएंगे। अब यहाँ से वैक्सीन ले चुके लोग आईडी देकर अपना सर्टिफिकेट भी डाउनलोड कर सकते हैं।
    • वहीं 60 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए पंजीकरण करने के लिए आवश्यक एक फोटो आईडी भी लगेगी। वहीं अन्य बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए, एक मेडिकल सर्टिफिकेट भी देना आवश्यक होगा।
    • बताया गया है कि सरकार पहले से अन्य बीमारियों की डीटेल के साथ एक फॉर्म जारी कर सकती है जिसे लाभार्थी को टेस्ट के बाद डॉक्टर द्वारा साइन कराना और स्वयं भी भरना होगा। वहीं टीकाकरण के दौरान इन डॉक्युमेंट्स को दिखाना भी जरूरी होगा।टीकाकरण के इस चरण के लिए बुकिंग और ओपन स्लॉट दोनों ही मौजूद होंगे।
    • अब लाभार्थी अपनी वैक्सीन साइट और समय को भी चुन सकते हैं लेकिन कोविशिल्ड और कोवैक्सीन के बीच ऐसा कोई भी विकल्प नहीं होगा। साथ ही 50 वर्ष से ऊपर के लोग जिन्हें कोई अन्य रोग नहीं है उन्हें फिलहाल टीके के लिए इंतजार करना होगा।

    इसके साथ ही बीते बुधवार को रविशंकर प्रसाद ने बताया कि दस हजार सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों एवं 20 हजार निजी अस्पतालों में दूसरे चरण का टीकाकरण अभियान भी अब चलेगा। जो लोग निजी अस्पतालों में टीका लगाना चाहेंगे, उन्हें इसके लिए उन्हें शुल्क चुकाना होगा। यह शुल्क कितना होगा, इसे सरकार आगामी तीन-चार दिनों में तय करेगी। इसके लिए टीका निर्माता, अस्पतालों से बातचीत कर कोई ठोंस निर्णय लिया जाएगा। जबकि सरकारी केंद्रों में यह टीका नि:शुल्क लगाया जाएगा। यानी इस माने यह हुए कि जिनके पास क्षमता है वे अब पैसे देकर भी प्राइवेट अस्पतालों से वैक्सीन लगवा सकते हैं।

    वहीं अब इसके अलावा 45 साल से अधिक उम्र वालों को और किन बीमारियों के लोगों को कोरोना टीका लगाया जाएगा, इसके लिए भी जल्द ही बीमारियों की भी एक सूची जारी की जाएगी। गौरतलब है की केंद्र सरकार ने 16 जनवरी से देश में स्वास्थ्यकर्मियों हेतु पहले चरण का टीकाकरण अभियान शुरू किया था। वहीं बीते 02 फरवरी से दूसरे चरण की शुरुआत की गई, जिसमें अंग्रिम पंक्ति के कार्मिकों का टीकाकरण आरंभ किया गया था। जहाँ पहले चरण में एक करोड़ से अधिक स्वास्थ्यकर्मी इसमें शामिल हुए थे, जबकि दो करोड़ अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता भी इसमें जुड़े थे। अब तीसरे चरण में जिन लोगों को टीका लग रहा है, उनकी संख्या 27 करोड़ के करीब होने का एक अनुमान है।