बेटी 21 साल की उम्र में बन जाएगी करोड़पति, जानें मोदी सरकार की इस स्कीम के बारे में

    नई दिल्ली. यदि आप अपने बेटी का भविष्य सुरक्षित करना चाहते हैं तो मोदी सरकार की इस सरकारी स्कीम ‘सुकन्या स्मृद्धि योजना’ (Sukanya Samriddhi Yojana) में निवेश कर सकते हैं।सरकार ने देश की बेटियों के लिए इस योजना की शुरुवात की है। जिसमें निवेश कर आप अपनी बेटी की शिक्षा, शादी आदि की चिंता से छुटकारा पा सकते हैं। 

    क्या है सुकन्या समृद्धि योजना

    केंद्र सरकार (Modi Government) ने बेटियों के उज्ज्वल भविष्य के लिए सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) शुरू की है। सुकन्या समृद्धि योजना मोदी सरकार द्वारा शुरू की गयी छोटी बचत स्कीम है। ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ (Beti Bachao Beti Padhao) अभियान के तहत इसे शुरू किया गया था। यह स्कीम बेटियों की शिक्षा और उनके शादी-ब्याह के लिए रकम जुटाने में मदद करती है। स्कीम के तहत 7.6 फीसदी ब्याज दिया जाता है। आप इस योजना में 250 रुपए से लेकर 1.5 लाख रुपए तक की रकम जमा कर सकते हैं। माता-पिता इस योजना के तहत 2 बेटियों के नाम पर ही सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खाता खुलवा सकते हैं।  

    कैसे खुलवा सकते हैं खाता

    आप कमर्शियल बैंक या पोस्ट ऑफिस में इस योजना के तहत खाता खुलवा सकते हैं। बेटी की उम्र 18 साल होने पर आप उसकी शिक्षा के लिए अकाउंट से 50 फीसदी तक पैसे निकाल सकते हैं। गंभीर बीमारी की स्थिति में पांच साल बाद अकाउंट बंद किया जा सकता है। 

    टैक्स में मिलेगी छूट 

    स्कीम के तहत आपको 15 सालों तक निवेश करना होगा, जबकि स्कीम की मैच्युरिटी 21 सालों की होती है। आपको जमापूंजी के क्लोजिंग बैलेंस पर 7.6 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा। सुकन्या समृद्धि योजना के तहत निवेश करने पर इनकम टैक्स में छूट पा सकते हैं। सरकार आपको इनकम टैक्स की धारा 80सी के तहत टैक्स में छूट का लाभ देती है।

    बेटी बनेगी करोड़पति 

    यदि आप बेटी के जन्म के 1 साल बाद सुकन्या योजना में खाता खुलवाते हैं और अंकाउट में हर महीने 12,500 रुपए या फिर सालाना 1.5 लाख रुपए जमा करते हैं तो खाते की मैच्योरिटी बढ़ेगी। यानी बेटी की उम्र 21 साल के होने पर कुल 63.7 लाख रुपए मिलेंगे। जिसमें कुल जमा 22.5 लाख और अर्जित ब्याज 41.29 लाख रुपए होगा। वहीं अगर माता-पिता दोनों बेटी के लिए अलग-अलग जमा करवाते है तो बेटी के 21 साल पूरे होने पर उसे 1.27 करोड़ रुपए मिलेंगे।